भारतीय-अमेरिकी चिकित्सक अजय लोढ़ा का कोविड-19 संबंधी परेशानियों के चलते निधन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   15:07
भारतीय-अमेरिकी चिकित्सक अजय लोढ़ा का कोविड-19 संबंधी परेशानियों के चलते निधन

भारतीय-अमेरिकी चिकित्सक एवं समुदाय के नेता अजय लोढ़ा का कोविड-19 संबंधी परेशानियों के चलते निधन हो गया। भारतीय मूल के ‘अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन ’(एएपीआई) के पूर्व अध्यक्ष का पिछले आठ महीने से ‘क्लीवलैंड क्लिनिक’ में कोविड-19 संबंधी परेशानियों का इलाज चल रहा था और 21 नवम्बर को उन्होंने आखिरी सांस ली।

न्यूयॉर्क। भारतीय-अमेरिकी चिकित्सक एवं समुदाय के नेता अजय लोढ़ा का कोविड-19 संबंधी परेशानियों के चलते निधन हो गया। भारतीय मूल के ‘अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजिशियन ’(एएपीआई) के पूर्व अध्यक्ष का पिछले आठ महीने से ‘क्लीवलैंड क्लिनिक’ में कोविड-19 संबंधी परेशानियों का इलाज चल रहा था और 21 नवम्बर को उन्होंने आखिरी सांस ली। वह 58 वर्ष के थे। उनके परिवार में पत्नी स्मिता, एक बेटा अमित और बेटी श्वेता हैं।

इसे भी पढ़ें: ट्रंप ने पेनसिल्वेनिया में मुकदमा खारिज करने के न्यायाधीश के फैसले के खिलाफ अपील की

न्यूयॉर्क में भारत के महावाणिज्य दूतावास ने ट्वीट किया, ‘‘ भारतीय-अमेरिकी समुदाय के एक प्रख्यात नेता डॉ. अजय लोढ़ा के निधन की खबर सुन बेहद दुखी हूं। वह हमेशा हमारे दिलों में रहेंगे। उनकी मानवता, कृपालुता और समाज को उनका योगदान हमेशा सभी को प्रेरित करता रहेगा।’’

इसे भी पढ़ें: अमेरिका में 11-12 दिसंबर से शुरू हो सकता है कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम  

एएपीआई के अध्यक्ष सुधाकर जोनलनागड्डा ने उन्हें एक ‘‘ दूरदर्शी नेता’’ बताते हुए उनके निधन पर शोक व्यक्त किया और कहा कि उनकी मृत्यु ‘‘एएपीआई के इतिहास का सबसे काला दिन है।’’ एएपीआई की नवनिर्वाचित अध्यक्ष डॉ. अनुपमा सुधाकर, ‘जयपुर फुट यूएसए’ के अध्यक्ष प्रेम भंडारी, राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सहित कई लोगों ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है। लोढा ने उत्तरी अमेरिका के राजस्थान एसोसिएशन और राजस्थान मेडिकल एलुमनी एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष और न्यूयॉर्क में फ्लशिंग अस्पताल में अनुसंधान विभाग के निदेशक के तौर पर भी अपनी सेवाएं दी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।