मंडी में धूमधाम से मनाया जाएगा अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि मेला, सीएम 2 मार्च को करेंगे शुभारंभ

मंडी में धूमधाम से मनाया जाएगा अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि मेला, सीएम 2 मार्च  को करेंगे शुभारंभ

उन्होंने कहा कि 2 मार्च को प्रथम जलेब के बाद मध्य जलेब 5 मार्च को निकाली जाएगी। तीसरी और अन्तिम जलेब में 8 मार्च को राज्यपाल श्री राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर शामिल होंगे। वे समापन समारोह में मुख्यातिथि होंगे। अरिंदम चौधरी ने कहा कि जिला प्रशासन ने देवताओं के नजराने और देवलुओं के मानदेय में बढ़ोतरी को लेकर प्रस्ताव मुख्यमंत्री कार्यालय भेजा है। सीएम नजराने और मानदेय में वृद्धि को लेकर फैसला लेंगे।

मंडी । छोटी काशी मंडी का अंतरराष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव यहां के देवी-देवताओं को समर्पित है। ये महापर्व विशेष तौर से देव संस्कृति और यहां की समृद्ध परंपराओं को प्रमुखता देते हुए 2 से 8 मार्च तक पूरी धूमधाम  से  मनाया जाएगा। महोत्सव का शुभारम्भ मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर करेंगे। वे 2 मार्च को प्रथम जलेब में शामिल होंगे। यह जानकारी उपायुक्त अरिंदम चौधरी ने शनिवार को आयोजित प्रेसवार्ता में दी। उन्होंने इस मौके पत्रकारों को मेले के निमंत्रण पत्र देते हुए मीडिया के माध्यम से सभी लोगों को भी शिवरात्रि मेले का ‘न्यूंद्रा’ दिया।

 

उन्होंने कहा कि 2 मार्च को प्रथम जलेब के बाद मध्य जलेब 5 मार्च को निकाली जाएगी। तीसरी और अन्तिम जलेब में 8 मार्च को राज्यपाल श्री राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर शामिल होंगे। वे समापन समारोह में मुख्यातिथि होंगे।

अरिंदम चौधरी ने कहा कि जिला प्रशासन ने देवताओं के नजराने और देवलुओं के मानदेय में बढ़ोतरी को लेकर प्रस्ताव मुख्यमंत्री कार्यालय भेजा है। सीएम नजराने और मानदेय में वृद्धि को लेकर फैसला लेंगे।

इसे भी पढ़ें: धर्मशाला भारत-श्रीलंका के टी-20 सीरीज के दूसरे मैच पर खराब मौसम के चलते अनिशिचतता के बादल

पड्डल से 2 करोड़ से ज्यादा की आय

उपायुक्त ने बताया कि इस बार मेला समिति को पड्डल मैदान से कुल 2 करोड़ 9 लाख 98 हजार 198 रुपये की आय हुई है।  इसमें पड्डल मैदान से 1.52 करोड़, छोटे पड्डल में झूला इत्यादि से 25 लाख 90 हजार, तंबोला से 7 लाख 8 हजार और रेहड़ी-फहड़ी से 25 लाख रुपये से अधिक की आमदनी हुई है। कुल मिलाकर ये पहले के मुकाबले करीबन 15 लाख रुपये अधिक है। इसके अलावा टिकट, स्मारिका विज्ञापन, डोनेशन और अन्य योगदान के माध्यमों से भी आय प्राप्त हो रही है।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने यूक्रेन में फंसे हिमाचलियों की सुरक्षा का मामला विदेश मंत्रालय के समक्ष रखा

216 देवी देवताओं को निमंत्रण

उपायुक्त ने कहा कि पिछली बार की तरह इस बार भी 216 पंजीकृत देवी देवताओं को महोत्सव में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया है। मंडी आने वाले देवी देवताओं, कारदारों और देवलुओं की सुविधा के लिए सभी आवश्यक प्रबन्ध कर लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस बार धाम का आयोजन यू ब्लॉक की बजाय भीमाकाली सभागार में रहेगा।   अरिंदम चौधरी ने कहा कि इस बार पड्डल मैदान मंडी शिवरात्रि मेले के अतीत को जीवंत बनाती पुराने फोटोज की एक विशेष प्रदर्शनी भी लगाई जा रही है। हमारा प्रयास है कि देव आस्था का यह महा समागम देव संस्कृति को और मजबूती देने में सहायक हो तथा युवा पीढ़ी का इससे जुड़ाव और गहरा हो।

 

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने पद्मश्री विद्यानंद सरैक को किया सम्मानित

 

मेले में हिमाचली कलाकारों को प्रोत्साहन

उपायुक्त ने कहा कि महोत्सव में सांस्कृतिक संध्याओं में हिमाचली कलाकारों को प्राथमिकता देने पर बल दिया गया है। प्रत्येक सांस्कृतिक संध्या में हिमाचली कलाकारों के कार्यक्रम होंगे। अरिंदम चौधरी ने बताया कि मेले में इस बार 6 की बजाय 7 सांस्कृतिक संध्याएं रखी हैं। 7वीं संध्या हमारे देश के वीर शहीदों को समर्पित रहेगी । इसमें शहीदों के परिजनों के अलावा सैनिक परिवारों को विशेष तौर से बुलाया जाएगा। इसका आयोजन 8 मार्च को सेरी मंच पर किया जाएगा। ये एक प्रयोग के तौर पर किया जा रहा है और इसके लिए ट्रैफिक प्लान भी अलग बनेगा। बाकी सांस्कृतिक संध्याएं पड्डल में होंगी।

 

मेले में सबकी भागीदारी तय बनाने पर जोर

इस दौरान अतिरिक्त उपायुक्त जतिन लाल ने बताया कि मेले में सबकी भागीदारी तय बनाने पर जोर रहेगा। हर वर्ग को इससे जोड़ने के प्रयास किए जा रहे हैं। खासकर अनाथ और दिव्यांग बच्चों की मेले में भागीदारी तय बनाई जाएगी। इसके लिए सांस्कृतिक संध्याओं में दिव्यांग बच्चों का फैशन शो और एक डांस शो ‘फायर ऑन व्हील’ रखा गया है।

200 बच्चों का सामूहिक जन्मदिन

सामाजिक संदेशों के प्रसार पर जोर

अतिरिक्त उपायुक्त ने बताया कि महोत्सव में 200 बच्चों, जिनमें अनाथ, दिव्यांग और कुपोषण के शिकार बच्चे शामिल होंगे, का सामूहिक जन्मदिन आयोजन का कार्यक्रम रखा गया है। उन्होंने महोत्सव में सामाजिक संदेशों के प्रसार पर भी विशेष जोर दिया जाएगा। जनजागरूकता के लिए विशेष आयोजन किए जाएंगे।

महोत्सव में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, पोषण अभियान और नशा मुक्ति जैसे अभियानों के तहत विविध गतिविधियां की जाएंगी। शहर में हर दिन अलग अलग जगह ‘फ्लैश मॉब’ आयोजित किए जाएंगे। इसके अलावा सेल्फी प्वाइंट बनाकर भी सामाजिक सरोकार की योजनाओं से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए जलेब में भी सामाजिक संदेष वाली झांकियां रखी गई हैं।

सांस्कृतिक संध्याओं ये कलाकार मचाएंगे धमाल

जतिन लाल ने बताया कि पड्डल में पहली सांस्कृतिक संध्या 2 मार्च को होगी। इसमें देशभर में नाम कमाने वाले हिमाचल पुलिस बैंड ‘हारमनी ऑफ दी पाइन्स’ की प्रस्तुति रहेगी। इसके अलावा इंडियन आइडल फेम नितिन कुमार भी अपनी प्रस्तुति देंगे।  3 मार्च को हिमाचली लोक गायक इंद्रजीत और पंजाबी गायिका अर्शप्रीत कौर अपने गायन से श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करेंगे।

4 को इंडियन आइडल फेम हिमाचल के कुमार साहिल और पंजाबी गायक मनकीरत औलख अपनी गायकी से धमाल मचाएंगे। 5 मार्च को इंडियन आइडल फेम हिमाचल के अनुज शर्मा और हिमाचली लोक गायक नरेंद्र ठाकुर अपनी प्रस्तुति देंगे। 6 मार्च को दिव्यांग बच्चों का फैशन होगा साथ ही नाटी किंग कुलदीप शर्मा अपनी गायकी का जादू बिखेरेंगे। 7 मार्च को दिव्यांग बच्चों का डांस शो ‘डांस ऑन व्हील्स’ रहेगा, इसके अलावा पंजाबी गायक मनिंदर भुट्टर अपने गानों से धमाल मचाएंगे। 8 मार्च को सेरी मंच पर ‘शहीदों को नमन’ कार्यक्रम रहेगा।

खेल स्पर्धाओं को महिला टीमों की भागीदारी

वहीं, खेल उपसमिति की अध्यक्ष पुलिस अधीक्षक शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि मेले में खेल प्रतियोगिताओं के और बेहतर आयोजन पर बल दिया गया है। सभी प्रतियोगिताओं में महिलाओं की भागीदारी तय बनाई जाएगी। फुटबॉल और हॉकी प्रतियोगिताएं 18 से 20 फरवरी में बीच कराई जा चुकी हैं। बास्केट बॉल, कबड्डी, वॉलीबॉल, रगोली, पेंटिंग, रस्साकशी प्रतियोगिताएं और मैराथन 2 से 8 मार्च के मध्य आयोजित की जाएंगी।

इसके अलावा विशेषतौर पर वॉलीबॉल और कबड्डी स्पर्धाओं को राष्ट्रीय स्तर का स्वरूप देने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके लिए प्रदेशभर की टीमों के साथ साथ नेशनल लेवल की टीमों की भागीदारी सुनिश्चित बनाने के लिए काम किया जा रहा है।

6 मार्च को मैराथन

शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि 6 मार्च को मंडी में मैराथन का आयोजन किया जाएगा। इसमें 21, 11 और 3 किलोमीटर की दौड़ें होंगी। मैराथन में सभी लोग भाग ले सकते हैं। मैराथन में भाग लेने के लिए 6 मार्च को सुबह सात बजे सेरी मंच पहुंच कर पंजीकरण करवाया जा सकता है। मैराथन सेरी से आरंभ होकर सेरी पर ही संपन्न होगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।