वायनाड कार्यालय पर हुए हमले की राहुल गांधी ने की निंदा, नुपुर विवाद को लेकर BJP और RSS पर साधा निशाना

Rahul Gandhi
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नुपुर शर्मा विवाद पर टिप्पणी करते हुए भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि देश में माहौल सत्ताधारी सरकार ने बनाया है। यह वह व्यक्ति नहीं है जिसने टिप्पणी की है। यह प्रधानमंत्री हैं, यह गृह मंत्री हैं, यह भाजपा और आरएसएस है, यह एक राष्ट्रविरोधी कृत्य है।

वायनाड। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को वायनाड में अपने कार्यालय का दौरा किया, जहां पर कथित तौर पर 24 जून को माकपा की छात्र इकाई एसएफआई ने तोड़फोड़ की थी। इस दौरान राहुल गांधी ने तोड़फोड़ की इस घटना की निंदा भी की। उन्होंने कहा कि हिंसा से कभी समस्या का समाधान नहीं होता।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उद्धव सरकार के पतन को लेकर कांग्रेस नेता कमलनाथ पर कटाक्ष किया 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कहा कि यह वायनाड के लोगों का कार्यालय है। जो हुआ वह दुर्भाग्यपूर्ण है। हिंसा से कभी समस्या का समाधान नहीं होता। ऐसा करने वाले लोगों ने गैर-जिम्मेदाराना तरीके से काम किया। मेरी उनसे कोई दुश्मनी नहीं है।

इसी बीच उन्होंने नुपुर शर्मा विवाद पर टिप्पणी करते हुए भाजपा और आरएसएस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि देश में माहौल सत्ताधारी सरकार ने बनाया है। यह वह व्यक्ति नहीं है जिसने टिप्पणी की है। यह प्रधानमंत्री हैं, यह गृह मंत्री हैं, यह भाजपा और आरएसएस है, यह एक राष्ट्रविरोधी कृत्य है।

इसे भी पढ़ें: 'भगवामयी होगी पंजाब लोक कांग्रेस', अमरिंदर सिंह भाजपा में PLC का विलय करने के लिए तैयार ! 

तीन दिवसीय वायनाड दौरा

राहुल गांधी ने अपने संसदीय क्षेत्र वायनाड के तीन दिवसीय दौरे पर हैं, जहां पर पार्टी की प्रदेश इकाई के प्रमुख के सुधाकरन के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं ने राहुल गांधी की अगवानी की। इसके बाद उन्होंने एसएफआई कार्यकर्ताओं द्वारा वायनाड के कलपेट्टा में कार्यालय में हुई तोड़फोड़ की घटना के एक सप्ताह बाद इलाके का दौरा किया और कार्यालय भी गए। जिसकी तस्वीर सामने आई है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़