मनरेगा मजदूरों के खाते में झारखंड सरकार ने बकाया 350 करोड़ रुपये डाले

Jharkhand
केन्द्र से मनरेगा की सोलहवीं किश्त जारी होने के बाद झारखंड में मनरेगा के तहत मजदूरों को राज्य सरकार ने बकाया 350 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यहां बताया कि राज्य में मनरेगा के तहत मजदूरों का 350 करोड़ का भुगतान बताया था जिसे इस सप्ताह उनके खाते में डाल दिया गया।

रांची। केन्द्र से मनरेगा की सोलहवीं किश्त जारी होने के बाद झारखंड में मनरेगा के तहत मजदूरों को राज्य सरकार ने बकाया 350 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया है। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने यहां बताया कि राज्य में मनरेगा के तहत मजदूरों का 350 करोड़ रुपये का भुगतान बताया था जिसे इस सप्ताह उनके खाते में डाल दिया गया। उन्होंने बताया कि कोविड-19 जैसी वैश्विक महामारी के दौरान कोई भूखा न रहे, इसके लिए सरकार प्रयासरत है। सरकार के स्तर पर न सिर्फ बाहर से आए लोगों बल्कि मनरेगा के तहत काम कर रहे मजदूरों का भी विशेष खयाल रखा जा रहा है और यही कारण है कि सरकार ने उनके खाते में मजदूरी के रूप में 350 करोड़ रुपए डाल दिए हैं।

इसे भी पढ़ें: काबुल पर हमला करने के लिए आत्मघाती हमलावर भारी मात्रा में विस्फोटक लिए हुए था

मनरेगा आयुक्त राजेश्वरी बी ने बताया कि झारखंड के मनरेगा मजदूरों की मजदूरी मद में 350 करोड़ रुपया बकाया था। राज्य सरकार की ओर से इसके लिए लगातार प्रयास किया जा रहा था। यह राशि अब तक झारखंड को नहीं मिली थी। हालांकि केंद्र सरकार ने इस वित्तीय वर्ष की सोलहवां किश्त आज जारी कर दी है।

इसे भी पढ़ें: जबलपुर में कुख्यात अपराधी के पास मिलीं पांच राइफल, रासुका के तहत मामला दर्ज

उन्होंने बताया कि सोमवार को सभी मजदूरों के खाते में पैसे डाल दिये गये। केंद्र सरकार ने मनरेगा मजदूरों की मजदूरी 194 रुपये से बढ़ाकर 198 रुपये कर दी है। इसके बाद झारखंड सरकार मनरेगा मजदूरों को राज्य सरकार के मद से 27 रूपये और बढ़ाकर 225 रूपये का भुगतान कर रही है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़