झारखंड के मंत्री हाफिजुल हसन की धमकी, हमारे 20 घर बंद होंगे तो आपके 80 बंद कर देंगे

झारखंड के मंत्री हाफिजुल हसन की धमकी, हमारे 20 घर बंद होंगे तो आपके 80 बंद कर देंगे
Screenshot

झारखंड सरकार के मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा जो किया जा रहा है। धर्म विशेष के साथ जो हो रहा है उसमें सभी का नुकसान है। हम 20 प्रतिशत हैं तो आप 80 प्रतिशत हैं, 70 प्रतिशत हैं। लेकिन अगर मेरा 20 घर बंद होगा तो आपका 70 घर बंद होगा। ये सभी को समझ में आ गया।

झारखंड के मंत्री हाफिजुल हसन ने केंद्र सरकार को 'अल्पसंख्यक के साथ खिलवाड़' के खिलाफ चेतावनी दी है। झारखंड के मंत्री हफिजुल हसन ने खुलेआम धमकी दी है। उन्होंने कहा कि 20 फीसदी को तंग किया तो 80 फीसदी को खत्म कर देंगे। उन्होंने कहा कि हमारे 20 घर बंद होंगे तो आपके 80 घर बंद कर देंगे। मंत्री ने भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को चेतावनी में कहा कि केंद्र सरकार के द्वारा जो किया जा रहा है। धर्म विशेष के साथ जो हो रहा है उसमें सभी का नुकसान है। अगर हम 20 प्रतिशत हैं तो आप 80 प्रतिशत हैं, 70 प्रतिशत हैं। लेकिन अगर मेरा 20 घर बंद होगा तो आपका 70 घर बंद होगा। ये सभी को समझ में आ गया।

इसे भी पढ़ें: खूंटी में पांच साल की मासूम के साथ 12 साल के नाबालिग ने किया बलात्कार

भाजपा ने झारखंड के मंत्री का इस्तीफा मांगा

भाजपा ने इस टिप्पणी पर कड़ी आपत्ति जताते हुए हसन के इस्तीफे की मांग की है। झारखंड भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा कि यह हेमंत सोरेन सरकार का असली चेहरा है। अगर मुख्यमंत्री में हिम्मत है तो उन्हें मंत्री से इस्तीफा देने के लिए कहना चाहिए।  झारखंड के भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने भी हाफिजुल हसन को 'हिंदुओं को खुली धमकी' देने के लिए निशाना साधा है। दुबे ने कहा, "क्या आपने इस मंत्री को सुपारी दी है? धर्मांतरण और सांप्रदायिक नफरत भड़काने का आपका एजेंडा अब खुले में है। हफीज मेरे लोकसभा क्षेत्र से विधायक हैं। अगले चुनाव में मैं उनकी जमानत रद्द करना सुनिश्चित करूंगा।

इसे भी पढ़ें: भाई की शादी में जा रही महिला की कार खाई में गिरी, तीन की मौत

बता दें कि झामुमो नेता हाफिजुल हसन मधुपुर से विधायक हैं और वर्तमान में हेमंत सोरेन के मंत्रिमंडल में युवा और खेल मामलों के विभाग के मंत्री हैं। 2014 में, संपत्तियों के संबंध में आपराधिक विश्वासघात के लिए आईपीसी की धारा 409/420/120बी और 177 के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया था।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।