बिहार महागठबंधन में तकरार जारी, सीट बंटवारे को लेकर मांझी चिंतित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2019   10:45
बिहार महागठबंधन में तकरार जारी, सीट बंटवारे को लेकर मांझी चिंतित

उन्होंने कहा कि लालू स्वयं राजद, कांग्रेस, हम तथा अन्य छोटे दलों के बीच चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे पर शीघ्र बैठक किये जाने के पक्षधर हैं।

रांची। हिंदुस्तानी अवामी मोर्चा (हम) के मुखिया जीतन राम मांझी ने शनिवार को यहां कहा कि बिहार में प्रस्तावित महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर हम लोग चिंतित हैं क्योंकि महागठबंधन के सभी घटकों को चुनावों में अपने उम्मीदवार उतारने के लिए सम्मानजनक सीटें मिलनी चाहिए। न्यायिक हिरासत में यहां रिम्स में अपनी बीमारियों का इलाज करा रहे राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू प्रसाद से मिलने के बाद मीडिया से मुखातिब हम के अध्यक्ष माझी ने यह बात कही।

माझी ने कहा, ‘‘लालू यादव ने महागठबंधन के सभी घटक दलों से मिल-बैठकर सीटों के तालमेल पर बातचीत करने को कहा है। ’’ यह पूछे जाने पर कि क्या सीटों के बंटवारे को लेकर महागठबंधन में कोई तकरार है, माझी ने कहा कि महागठबंधन के सदस्यों में कोई भी विवाद नहीं है, लेकिन सभी के सम्मान की रक्षा होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के शब्दों को कसौटी पर तौलने का वक्त आ गया: मोदी

उन्होंने कहा कि लालू स्वयं राजद, कांग्रेस, हम तथा अन्य छोटे दलों के बीच चुनावों के लिए सीटों के बंटवारे पर शीघ्र बैठक किये जाने के पक्षधर हैं। इस बीच सीटों के बंटवारे को लेकर मीडिया में आ रही तरह तरह की खबरों का माझी ने खंडन किया और कहा कि अभी कोई फार्मूला तय ही नहीं हुआ है तो सीटें कैसे तय हो जायेंगी? माझी ने कहा, ‘‘यदि हम मिलकर लड़ेंगे तो हम निश्चित तौर पर राजग को परास्त करेंगे लेकिन यदि हम अलग अलग लड़े तो राजग नहीं हारेगा और यह देश के लिए बड़ा नुकसान होगा।’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...