बस भ्रष्टाचार और कमलनाथ चलते रहे, बाकी सब बंद हो गया थाः शिवराज सिंह चौहान

Shivraj Singh Chauhan
दिनेश शुक्ल । Oct 31, 2020 8:37PM
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ तो सेठ हैं, उद्योगपति हैं, लेकिन हम तो नंगे-भूखे ही अच्छे हैं। हम नंगे-भूखे होकर भी गरीबों की सेवा में दिन-रात लगे हुए हैं, लेकिन इन सेठ और उद्योगपति मुख्यमंत्री ने हमारी गरीब जनता की योजनाओं को ही बंद कर दिया था।

भोपाल। कांग्रेस सरकार में चालू तो सिर्फ भ्रष्टाचार, दलाली और कमलनाथ रहे, बाकी तो उन्होंने सब कुछ बंद कर दिया था। हमारी संबल योजना को बंद कर दिया। बेटियों की कन्यादान की राशि को बंद कर दिया। बुजुर्गों की तीर्थदर्शन योजना को बंद कर दिया। किसानों को 0 प्रतिशत ब्याज पर ऋण देना बंद कर दिया। भांजे-भांजियों को लैपटॉप देना बंद कर दिया। ये कमलनाथ नहीं कपटनाथ हैं, जो प्रदेश की जनता के साथ छल-कपट करते रहे। अब वे हमें नालायक, नंगा-भूखा और भी न जाने क्या-क्या कह रहे हैं। ये बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कही। वे शनिवार को मुंगावली में आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थे।

 

इसे भी पढ़ें: उमंग सिंघार का आरोप कांग्रेस की हार की हताशा से उपजा- बीजेपी

दलाली और भ्रष्टाचार की जड़ें जमाईं

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ प्रदेश में 15 माह तक मुख्यमंत्री रहे। इस दौरान उन्होंने वल्लभ भवन को दलालों की मंडी बना दिया था। उनके शासनकाल में भ्रष्टाचार की जड़ें जम गईं थी। उन्होंने कहा कि कमलनाथ के पास उनके मंत्री-विधायकों के लिए तो समय नहीं रहता था, लेकिन उनके पास दलालों की फौज जमी रहती थी। उन्होंने अधिकारियों के पदों की बोली लगाई और उनसे पैसा कमाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कमलनाथ के पास विकास कार्यों के लिए पैसा नहीं था। मंत्री-विधायक विकास कार्यों के लिए जाते थे तो वे कहते थे कि पैसा नहीं है, खजाना खाली है। मैं कहता हूं कि क्या हम औरंगजेब हैं, जो हमने खजाना लूट लिया। कमलनाथ के पास विकास कराने की नीयत नहीं थी। वे विकास विरोधी थे, उन्होंने तो केवल तबादला उद्योग चलाकर कांग्रेस के दलालों को रोजगार दिया था।

इसे भी पढ़ें: जीतू पटवारी ने कहा हार सामने देख, बीजेपी ने की प्लान बी की तैयारी फिर लगी विधायकों को खऱीदने की मंडी

वे तो सेठ हैं, लेकिन हम तो नंगे-भूखे हैं

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ तो सेठ हैं, उद्योगपति हैं, लेकिन हम तो नंगे-भूखे ही अच्छे हैं। हम नंगे-भूखे होकर भी गरीबों की सेवा में दिन-रात लगे हुए हैं, लेकिन इन सेठ और उद्योगपति मुख्यमंत्री ने हमारी गरीब जनता की योजनाओं को ही बंद कर दिया था। अब कमलनाथ कह रहे हैं कि शिवराज सिंह तो नालायक है। कभी कहते हैं कि शिवराज सिंह तो नारियल का ट्रक लेकर ही चलता है और कहीं भी नारियल फोड़ देता है, लेकिन कमलनाथ-कांग्रेस की तो किस्मत ही फूटी हुई है वे क्या नारियल फोड़ेंगे।

इसे भी पढ़ें: पूर्व मंत्री उमंग सिंघार ने सिंधिया पर 50 करोड़ का ऑफर देने के लगाए आरोप

तो जेल में बंद करवाकर चक्की पिसवाउंगा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ ने गरीबों के हकों पर डाका डाला है। उनकी योजनाओं को ही बंद कर दिया। संबल योजना के जरिए गरीबों के अंतिम संस्कार के लिए पांच हजार रूपए देना भी बंद कर दिया। उन्होंने कहा कि कमलनाथ जी यदि किसी ने गरीब की थाली पर डाका डाला, उनका अधिकार छीना तो जेल में बंद करवाकर चक्की पिसवाउंगा। हमारी तो भगवान ही जनता है और हम इस जनता के सेवक हैं। उनके कल्याण के लिए दिन-रात लगे हुए हैं, लेकिन कमलनाथ-कांग्रेस ने तो गरीबों के अधिकार ही छीन लिए।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़