ज्योतिरादित्य सिंधिया को मिला मुख्यमंत्री बनने का आशीर्वाद, कांग्रेस ने किया कटाक्ष

ज्योतिरादित्य सिंधिया को मिला मुख्यमंत्री बनने का आशीर्वाद, कांग्रेस ने किया कटाक्ष

राष्ट्र संत जैन मुनि श्री 108 विजयेश सागर जी महाराज और मुनिश्री विहर्ष सागर जी महाराज से आशीर्वाद लिया। दोनों संत मुनि ने सिंधिया को जल्द मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने का आशीर्वाद दिया था।

भोपाल। मंगलवार को राष्ट्र संत जैन मुनि श्री 108 विजयेश सागर महाराज और मुनिश्री विहर्ष सागर महाराज ने केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को जल्द मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने का आशीर्वाद दिया। इस लेकर सियासत गर्म हो गई है।

दरअसल कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट कर लिखा है कि ग्वालियर में आयोजित पंचकल्याणक गजरथ महोत्सव में श्रीमंत के अगले मुख्यमंत्री बनने की भविष्यवाणी हुई और श्रीमंत समर्थकों ने तालियां बजाकर नारेबाजी की। श्रीमंत ने मुस्कुराहट के साथ इस भविष्यवाणी पर अपनी रजामंदी दी। श्रीमंत की महत्वाकांक्षा सामने आती जा रही है।

इसे भी पढ़ें:महाशिवरात्रि पर एमपी के सभी बड़े शिव मंदिरों में होंगे आयोजन, मंदिरों को संवारने में जुटा पर्यटन एवं संस्कृति विभाग 

उन्होंने आगे लिखा कि अब देखना होगा कि इस भविष्यवाणी के बाद शिवराज जी का अगला वार क्या होगा। पिछली बार तो केपी यादव की चिट्ठी का खुलासा हुआ था। वैसे बता दे कि कुंडलपुर का आशीर्वाद कमलनाथ जी को प्राप्त है।

आपको बता दें कि मंगलवार को ग्वालियर के फूलबाग मैदान में आयोजित पंचकल्याणक गजरथ महोत्सव एवं विश्व शांति महायज्ञ कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया  पहुंचे थे। इस दौरान राष्ट्र संत जैन मुनि श्री 108 विजयेश सागर जी महाराज और मुनिश्री विहर्ष सागर जी महाराज से आशीर्वाद लिया। दोनों संत मुनि ने सिंधिया को जल्द मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनने का आशीर्वाद दिया था।

इसे भी पढ़ें:यूक्रेन से वापस लौटे 242 छात्रों में से 2 एमपी के भी, बयां किया अपना दर्द 

वहीं मंच पर मौजूद मुनिश्री ने कहा था कि ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर के विकास के साथ प्रदेश में नए आयामों को स्थापित करने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। युद्ध महाभारत का हो या राजनीति का इस दौरान आपका सही समय पर सही निर्णय आपको जीत दिला सकता है। इसके साथ ही आप अपनों को भी सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।