हां...चुनाव है, में बोले शिवराज सिंह चौहान कमलनाथ ने जादूगर बनकर किसानों से गद्दारी, छल-कपट किया है

Shivraj Singh Chauhan, Chief Minister of Madhya Pradesh
दिनेश शुक्ल । Oct 30, 2020 10:18PM
कमलनाथ ने जादूगर बनकर लाखों किसानों को योजना से बाहर कर दिया। उन्होंने एक आदेश निकाला कि 31 मार्च 2018 तक के किसानों का कर्जामाफ होगा। इस आदेश से एक बार में ही लाखों किसान बाहर हो गए। फिर कहा कि चालू खाते के कर्जमाफ न होकर कालातीत कर्जामाफ होगा। इसमें भी लाखों किसान बाहर हो गए।

भोपाल। 2018 के विधानसभा चुनाव में जीत के बाद प्रदेश में 15 माह तक कांग्रेस सरकार रही। हालांकि कांग्रेस की सरकार बहुमत की सरकार नहीं थी। उन्होंने निर्दलीय विधायकों का समर्थन लेकर सरकार बनाई थी। चुनाव में वोट तो भारतीय जनता पार्टी को ज्यादा मिले थे, लेकिन कुछ सीटें कांग्रेस की ज्यादा आ गईं। हम चाहते तो उस समय सरकार बना सकते थे, लेकिन हमने फैसला किया कि जिस पार्टी की सीट ज्यादा हो वही सरकार बनाएं। उम्मीद थी कि 15 साल बाद कांग्रेस सत्ता में लौटी है तो प्रदेश का विकास करेगी, परंतु कमलनाथ ने मात्र 15 महीने में ही जनता के मंदिर वल्लभ भवन को दलालों का अड्डा बना दिया। उन्होंने अपनी जादूगरी से किसानों के साथ गद्दारी, छल-कपट किया है। ये बातें मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने हां... चुनाव है डिजिटल अभियान में जनता से संवाद करते हुए कही।

 

इसे भी पढ़ें: मुरैना में रोड शो के दौरान पार्टी नेताओं पर बरसे फूल, गूंजे भाजपा के समर्थन में नारे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कमलनाथ के पास जनता, विधायक एवं मंत्रियों के लिए समय नहीं होता था, लेकिन कोई बड़ा उद्योगपति आ जाए तो उसके स्वागत के लिए हमेशा द्वार खुला रहता था। सौदे करके बोलियां लगाई जाती थीं और घर की तिजोरियां भरी जाती थी। कमलनाथ ने भ्रष्टाचार का विकेन्द्रीकरण किया। हमारी सरकार में चलाई गई गरीबों की कई योजनाओं को कमलनाथ सरकार में बंद कर दिया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कमलनाथ ने कहा था कि सभी किसानों का कर्जामाफ होगा, परंतु इसके लिए बार-बार आदेश बदले गए और एक भी किसान का कर्जमाफ नहीं हो सका। कमलनाथ ने जादूगर बनकर लाखों किसानों को योजना से बाहर कर दिया। उन्होंने एक आदेश निकाला कि 31 मार्च 2018 तक के किसानों का कर्जामाफ होगा। इस आदेश से एक बार में ही लाखों किसान बाहर हो गए। फिर कहा कि चालू खाते के कर्जमाफ न होकर कालातीत कर्जामाफ होगा। इसमें भी लाखों किसान बाहर हो गए। फिर कहा जिस किसान का एक ही बैंक में खाता है सिर्फ उनके ही कर्जमाफ होंगे। बाकी के नहीं होंगे। फिर लाखों किसान बाहर हो गए। कमलनाथ ने फिर आदेश निकाला कि जिस किसान का 2 लाख रूपए से ज्यादा का कर्जा है उनका माफ नहीं होगा। कमलनाथ ने कलाकारी से लाखों किसानों को कर्जमाफी के दायरे से ही बाहर कर दिया।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेसी विधायक आरिफ मसूद का प्रदर्शन शुद्ध तौर पर आतंकवाद का समर्थन- वीडी शर्मा

राहुल गांधी तो ट्रेक्टर पर सोफा लगाकर घूमते हैं

मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस और कमलनाथ किसानों का दर्द क्या समझें? राहुल गांधी तो अब ट्रेक्टर पर सोफा लगाकर घूमते हैं। वे यह नहीं जानते कि प्याज जमीन के अंदर होता है या बाहर होता है। कांग्रेस के झूठ की जमीन को किसान तैयार नहीं होने देंगे।  कमलनाथ ने बैगा, सहरिया जाति की महिलाओं के खातों में 1 रूपए नहीं भेजे। भाजपा सरकार बनने के बाद 9 माह का रूका हुआ पैसा डाल दिया गया। अब तक अलग-अलग योजनाओं के माध्यम से 63 हजार करोड़ रूपए हितग्राहियों के खातों में भेज दिया गया है। उन्होंने कहा कि बेरोजगारी के नाम पर युवकों को 4000 रूपए प्रतिमाह भत्ता देने का वचन दिया, परंतु एक भी बेरोजगार युवक को भत्ता नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की निरंतरता के लिए चुनाव जरूरी है। हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी भारत के लिए भगवान का वरदान है। उन्होंने देश का मान, सम्मान और स्वाभिमान बढ़ाया है। पहले छोटे-छोटे देश भारत को आंखें दिखाते थे, परंतु आज चीन भी अगर आंख दिखाता है तो उसको भी उसी की भाषा में जवाब दिया जाता है। प्रधानमंत्री ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण शुरू करवा दिया। प्रदेश के विकास की यात्रा और आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए, गरीबों के कल्याण के लिए, मां, बहन, बेटी के सम्मान के लिए भाजपा की सरकार जरूरी है। हम किसी का रोजगार नहीं छीनेंगे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़