कमलनाथ यह स्पष्ट करें, वे भारतीय हैं या चीन के एजेंट? : प्रभात झा

कमलनाथ यह स्पष्ट करें, वे भारतीय हैं या चीन के एजेंट? : प्रभात झा

कांग्रेस की यह जो चीनभक्ति है, वह राष्ट्रभक्ति पर भारी दिखाई दे रही है। उन्होंने कहा कि इस खुलासे के बाद अब इस रहस्य पर से पर्दा उठ गया है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से पैसे मिलने के मामले का जो रहस्योद्घाटन हुआ है, इसमें सबसे बड़ी भूमिका मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की सामने आई है।

भोपाल। हालही में देश के पत्रकारों ने राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से राशि मिलने का बड़ा खुलासा किया है। इसमें तत्कालीन वाणिज्य मंत्री के तौर पर कमलनाथ की बड़ी भूमिका रही है। उन्होंने कई वस्तुओं पर आयात शुल्क कम करके उनके चीन से आयात की मंजूरी दी, जबकि वे चीजें देश में ही भरपूर मात्रा में उपलब्ध थीं। यदि यह कहा जाए कि कमलनाथ जी चीन के एजेंट के रूप में वाणिज्य मंत्री बन कर कार्य कर रहे थे तो कोई गलत नहीं होगा। ऐसे में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को देश को यह बताना चाहिए कि उनकी निष्ठा भारत के प्रति है या वे चीन के एजेंट हैं ? यह बात शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने मीडिया से चर्चा के दौरान कही।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश पुलिस विभाग में 4269 आरक्षकों की होगी भर्ती- मंत्री डॉ. मिश्रा

प्रभात झा ने नए खुलासे के लिए देश के पत्रकारों को बधाई देते हुंए कहा कि हम सभी जानते हैं कि इस समय सीमा पर भारत और चीन के बीच तनातनी चल रही है। आसार अच्छे नहीं दिख रहे हैं, ऐसे समय में राहुल गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा चीन की भाषा क्यों बोली जा रही है। क्या, कभी कोई भारतीय इस तरह चीन की भाषा बोल सकता है ? कांग्रेस की यह जो चीनभक्ति है, वह राष्ट्रभक्ति पर भारी दिखाई दे रही है। उन्होंने कहा कि इस खुलासे के बाद अब इस रहस्य पर से पर्दा उठ गया है। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन को चीन से पैसे मिलने के मामले का जो रहस्योद्घाटन हुआ है, इसमें सबसे बड़ी भूमिका मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की सामने आई है। कांग्रेस पार्टी और चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के बीच हुए समझौते के अनुसार उन चीजों का भी आयात किया गया, जो देश में बड़ी मात्रा में उपलब्ध हैं। वाणिज्य मंत्री रहते हुए कमलनाथ ने ऐसी कई वस्तुओं पर आयात शुल्क 40 से 200 प्रतिशत तक कम कर दिया। इस तरह से चीन की कंपनियों को जो अवैध कमाई हुई, उसी में से कुछ पैसे से कांग्रेस की आर्थिक मदद की गई और राजीव गांधी फाउंडेशन को पैसा दिया गया। 

इसे भी पढ़ें: चीन के बुलेट का जवाब वॉलेट से देने मध्य प्रदेश के अंकित ने किया एप तैयार

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा कि यह राष्ट्र के प्रति अपराध है और इसके जिम्मेदार तत्कालीन वाणिज्य मंत्री कमलनाथ हैं। झा ने कहा कि इस मामले में कमलनाथ की भूमिका दस्तावेजों में दर्ज है, जो सार्वजनिक कर दिए गए हैं। कांग्रेस और चीन के संबंधों के बारे में हुए इस खुलासे के बाद कमलनाथ की भूमिका संदिग्ध हो गई है, इसलिए उन्हें इसका जवाब देना चाहिए। यदि वे ऐसा नहीं करते हैं, तो भाजपा गांव-गांव, गली-गली में यह प्रचारित करेगी कि आखिर राहुल गांधी चीन की भाषा क्यों बोलते हैं, राहुल चीनी दूतावास में जाकर क्या-क्या बातें करते हैं? राजीव गांधी फाउंडेशन में चीन से कितने पैसे आते हैं और क्यों आते हैं?





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।