कर्नाटक की गठबंधन सरकार साल के अंत से पहले गिर सकती है: राव

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jun 3 2019 3:47PM
कर्नाटक की गठबंधन सरकार साल के अंत से पहले गिर सकती है: राव
Image Source: Google

विधानसभा में सत्तारूढ़ गठबंधन के 117 सदस्य हैं - जिनमें कांग्रेस के 78, जद (एस) के 37, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के एक और एक निर्दलीय शामिल है।

हैदराबाद। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता पी मुरलीधर राव ने कहा कि उनकी पार्टी कर्नाटक में कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन सरकार को अस्थिर करने की कोशिश नहीं करेगी, लेकिन संकेत दिया कि गठबंधन सरकार साल के अंत से पहले गिर सकती है। भाजपा के कर्नाटक मामलों के प्रभारी महासचिव राव ने कहा कि भाजपा पिछले एक साल से लगातार कहती आ रही है कि गठबंधन सरकार स्थिर नहीं है, यह नहीं टिक पाएगी और बनी नहीं रहेगी। यह पूछे जाने पर क्या सरकार 2019 तक चलेगी, राव ने बताया, ‘‘2019 अपने आप में थोड़ा लंबा हो सकता है, मुझे नहीं पता क्योंकि असल में चीजें स्थिर नहीं हैं।’’ भाजपा नेता ने कहा, ‘‘समस्या लगातार बढ़ रही है।’’

इसे भी पढ़ें: मोदी मंत्रिमंडल में क्या दक्षिणी राज्यों को मिला उचित प्रतिनिधित्व ?

उन्होंने कहा कि प्रदेश में भाजपा की जबरदस्त जीत के बाद गठबंधन की चिंता बढ़ गयी है। कर्नाटक में लोकसभा की 28 सीटें हैं जिसमें भाजपा ने 25 सीटों पर जीत हासिल की है जबकि कांग्रेस और भाजपा के हिस्से में एक एक सीट आयी है। भाजपा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार सुमालता ने भी जीत हासिल की है। भाजपा ने प्रदेश में पिछले साल हुए विधानसभा चुनावों में 104 सीटें जीती थीं और हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनावों के साथ हुए उपचुनावों में उन्होंने एक और सीट जीत ली।

इसे भी पढ़ें: मोदी और शाह ने येदियुरप्पा को दिया सख्त निर्देश, कहा- कर्नाटक सरकार न गिराएं



विधानसभा में सत्तारूढ़ गठबंधन के 117 सदस्य हैं - जिनमें कांग्रेस के 78, जद (एस) के 37, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के एक और एक निर्दलीय शामिल है। राव ने कहा, ‘‘सरकार अब अवैध हो गयी है और लोगों ने इसे खारिज कर दिया है ।तकनीकी रूप से, एक गठबंधन के रूप में वे (कांग्रेस-जेडी-एस) कह सकते हैं कि उनके पास बहुमत है। लेकिन जनादेश अलग है, बहुमत अलग है, इसलिए आपके पास वैधता नहीं है।” 

इसे भी पढ़ें: मोदी कैबिनेट में सबसे ज्यादा भागीदारी यूपी की रही

उन्होंने कहा, ‘‘हम (भाजपा) इसे (सरकार को) अस्थिर क्यों करें जब लोग (गठबंधन) को स्वीकार नहीं कर रहे हैं? उनके पास लोगों का समर्थन नहीं है, तो आप कांग्रेस और जद (एस) के लोगों (विधायकों) के बारे में नहीं सोचते हैं कि वह स्वयं बाहर निकलने के इच्छुक हैं ।’’राव ने कहा कि कर्नाटक में सरकार को बनाए रखना भाजपा की जिम्मेदारी नहीं है। उन्होंने कहा कि अगर सत्तारूढ़ गठबंधन का कोई विधायक आता है, तो क्या उन्हें उससे नहीं मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह सरकार को अस्थिर करने के लिए कोई खेल नहीं खेल रहे हैं।

 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story