कर्नाटक सरकार ने जिला प्रशासनों को कोविड स्थिति की कड़ी निगरानी का निर्देश दिया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 30, 2021   16:54
कर्नाटक सरकार ने जिला प्रशासनों को कोविड स्थिति की कड़ी निगरानी का निर्देश दिया

कर्नाटक सरकार ने कोविड ​​​​-19 मामलों में वृद्धि के मद्देनजर शुक्रवार को जिला प्रशासनों को अपने-अपने अधिकार क्षेत्र में स्थिति की कड़ी निगरानी करने और आवश्यक समझे जाने वाले अतिरिक्त रोकथाम उपाय लागू करने का आदेश दिया।

बेंगलुरु। कर्नाटक सरकार ने कोविड ​​​​-19 मामलों में वृद्धि के मद्देनजर शुक्रवार को जिला प्रशासनों को अपने-अपने अधिकार क्षेत्र में स्थिति की कड़ी निगरानी करने और आवश्यक समझे जाने वाले अतिरिक्त रोकथाम उपाय लागू करने का आदेश दिया। सरकार ने सीमा चौकियों पर मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार सख्त निगरानी लागू करने के लिए भी कहा है। सरकारी आदेश में कहा गया है कि ऐसा देखने में आया है कि सीमावर्ती राज्यों के साथ-साथ राज्य में कुछ स्थानों पर नए मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है।

इसे भी पढ़ें: अफगानिस्तान के 200 नागरिकों को लेकर अमेरिका पहुंचा बचाव विमान, जो बाइडेन ने किया स्वागत

ऐसी सूरत में समयबद्ध जांच रणनीति के साथ कड़ी निगरानी और कड़े सूक्ष्म नियंत्रण उपायों की आवश्यकता होती है। राजस्व विभाग (आपदा प्रबंधन) के प्रधान सचिव एन मंजूनाथ प्रसाद द्वारा हस्ताक्षरित आदेश में कहा गया है कि राज्य में कोविड​​​​-19 स्थिति का आकलन करने के बाद, मुख्य आयुक्त-बीबीएमपी और जिलों के उपायुक्तों को अपने संबंधित क्षेत्राधिकार में हालात की कड़ी निगरानी करने का निर्देश दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: तोक्यो ओलंपिक के सेमीफाइनल में पीवी सिंधू की एंट्री, गोल्ड मेडल जीतने से एक कदम दूर

साथ ही वे स्थिति के आकलन के आधार पर आवश्यक समझे जाने पर अतिरिक्त रोकथाम के उपाय लागू कर सकते हैं। इसके अलावा, मौजूदा दिशानिर्देशों के अनुसार सीमा चौकियों पर सख्त निगरानी उपायों को लागू किया जाना चाहिये। कर्नाटक में बृहस्पतिवार को संक्रमण के 2,052 और मौत के 35 नए मामले सामने आने के बाद क्रमश: संक्रमितों की संख्या 29,01,247 और मृतकों की तादाद 36,491 हो गई। बृहस्पतिवार को उपचाराधीन रोगियों की संख्या 23,253 थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।