कश्मीरी पंडित बाल ठाकरे को अपना आदर्श मानते हैं: शिवसेना सांसद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 24, 2022   19:47
कश्मीरी पंडित बाल ठाकरे को अपना आदर्श मानते हैं: शिवसेना सांसद

शिवसेना सांसद अनिल देसाई ने बृहस्पतिवार को यहां कहा कि कश्मीरी पंडित शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे को अपना आदर्श मानते हैं क्योंकि उन्होंने आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाए जाने और 1990 के दशक में घाटी छोड़ने के लिए मजबूर किए जाने के बाद समुदाय के कुछ लोगों को महाराष्ट्र में बसने में मदद की थी।

नांदेड़ (महाराष्ट्र)। शिवसेना सांसद अनिल देसाई ने बृहस्पतिवार को यहां कहा कि कश्मीरी पंडित शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे को अपना आदर्श मानते हैं क्योंकि उन्होंने आतंकवादियों द्वारा निशाना बनाए जाने और 1990 के दशक में घाटी छोड़ने के लिए मजबूर किए जाने के बाद समुदाय के कुछ लोगों को महाराष्ट्र में बसने में मदद की थी। पार्टी से राज्यसभा सदस्य देसाई ने कहा किदिवंगत बाल ठाकरे ने महाराष्ट्र में विस्थापित कश्मीरी छात्रों के लिए शिक्षा की व्यवस्था की भी थी।

इसे भी पढ़ें: कन्दरौड़ी औद्योगिक क्षेत्र हिमाचल के फार्मास्यूटिकल हब के रूप में चिन्हितः जय राम ठाकुर

उन्होंने यहां पत्रकारों से कहा, “जब पंडितों को कश्मीर से भगाया गया तो दुनिया जानती है कि (तत्कालीन) सरकार और प्रशासन क्या कर रहा था। दिवंगत शिवसेना प्रमुख ने इन पंडितों को महाराष्ट्र में बसने में मदद की। बाला साहेब ठाकरे को महाराष्ट्र में बसे कश्मीरी पंडित आदर्श मानते हैं।” देसाई मध्य महाराष्ट्र के नांदेड़ में शिव संपर्क अभियान में हिस्सा लेने के लिए आए थे। उनकी पार्टी ने इस जन संपर्क कार्यक्रम का आयोजन किया है जो राज्य में महा विकास अघाडी (एमवीए) सरकार की अगुवाई कर रही है।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में बढ़ रहा आम आदमी पार्टी का कुनबा, बड़ी संख्या में नेताओं ने ली 'आप' की सदस्यता

यह पूछे जाने पर कि क्या उन्होंने कश्मीरी पंडितों के पलायन पर आधारित हिंदी फिल्म द कश्मीर फाइल्स देखी है तो शिवसेना नेता ने इससे इनकार किया लेकिन कहा कि उन्होंने फिल्म की समीक्षाएं पढ़ी है। एक सवाल के जवाब में देसाई ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सरकार बदले की राजनीति नहीं करती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।