दिल्ली के उपराज्यपाल ने ‘सिग्नेचर व्यू’ अपार्टमेंट के पुन:विकास के आदेश डीडीए को दिए

Lieutenant
ANI
राज निवास के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि सक्सेना ने ठेकेदार/बिल्डर/निर्माण एजेंसी के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने इमारत के निर्माण में इसखामी के आने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों का पता लगाने के वास्ते सतर्कता जांच के भी आदेश दिए हैं।

नयी दिल्ली। उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना ने उत्तर दिल्ली के मुखर्जी नगर में ‘ढांचागत रूप से क्षतिग्रस्त’सिग्नेचर व्यू अपार्टमेंट्स के पुन:विकास के दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) को आदेश दिए हैं। राज निवास के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि सक्सेना ने ठेकेदार/बिल्डर/निर्माण एजेंसी के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही शुरू करने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने इमारत के निर्माण में इसखामी के आने के लिए जिम्मेदार अधिकारियों का पता लगाने के वास्ते सतर्कता जांच के भी आदेश दिए हैं। अधिकारी ने बतायाकि उपराज्यपाल‘ढांचागत रूप से क्षतिग्रस्त सिग्नेचर व्यू अपार्टमेंट्स के हज़ारों निवासियों को बचाने और मदद करने के लिए आगे आए हैं जो जिदंगी और संपत्ति को लेकर खतरे का सामना कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: एके एंटोनी के बेटे ने गुजरात दंगों पर बनी बीबीसी की विवादित डॉक्ट्यूमेंट्री का विरोध किया

अधिकारी के मुताबिक, सक्सेना ने डीडीए को समूचे अपार्टमेंट परिसर का पुन:विकास करने और निवासियों का अंतरिम व्यवस्था के तहत पुनर्वास करने का आदेश दिया है। उन्होंने बताया कि यह उपराज्यपाल का सभी अधिकारियों और ठेकेदारों को संदेश है कि कोई लापरवाही, कदाचार या सांठगांठ बर्दाश्त नहीं की जाएगी और शहर के निवासी सर्वोपरि हैं। ये अपार्टमेंट 200-09 के बीच बनाए गए थे और 2011-12 में उन्हें निवासियों को आवंटित किया गया था।

इसे भी पढ़ें: 'जो डील हुई है उसके मुताबिक काम नहीं हुआ तो नीतीश कुमार को छोड़नी पड़ेगी कुर्सी', सुशील मोदी का दावा

बहरहाल, जल्द ही फ्लैट में निर्माण संबंधी परेशानियां आने लगीं। इसके बाद लोगों ने डीडीए को शिकायत की। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली ने डीडीए के कहने पर 2021-22में अध्ययन किया और पाया कि यह इमारत सुरक्षित नहीं है। अधिकारी ने बताया कि अध्ययन में परिसर को खाली कराकर तोड़ने की सिफारिश की गई है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़