कोरोना की चेन तोड़ने के लिये मध्य प्रदेश कर रहा है अंतर्राज्यीय सीमाएं सील करने पर विचार: मिश्रा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2021   14:59
कोरोना की चेन तोड़ने के लिये मध्य प्रदेश कर रहा है अंतर्राज्यीय सीमाएं सील करने पर विचार: मिश्रा

मिश्रा ने बताया कि उत्तर प्रदेश की सीमाओं पर बस परिवहन सेवाओं को सात मई तक बंद करने के निर्णय को लेकर आदेश जारी कर दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि राज्यों की सीमाओं पर आवागमन से संक्रमण को रोकने के उपाय प्रभावित हो रहे हैं। आवागमन के कारण संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने की कार्यवाही भी प्रभावित हो रही है।

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार कोरोना की चेन(श्रृंखला) तोड़ने के लिये अपनी अंतर्राज्यीय सीमाएं सील करने पर सख्ती से विचार कर रही है। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बृहस्पतिवार रात को बताया, ‘‘कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिये सख्ती से इसकी चेन को तोड़ना जरूरी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 16 जिलों में कोरोना नियंत्रण के लिये किये जा रहे उपायों की समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान अंतर्राज्यीय सीमाओं को सील करने पर भी विचार किया गया।’’ उन्होंने कहा कि समीक्षा के दौरान सभी ने कोरोना की श्रृंखला को तोड़ने के लिये सख्ती पर जोर दिया। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कम हो रहा है कोरोना संक्रमण, कोरोना संक्रमण में प्रदेश 13वें स्थान पर

मिश्रा ने बताया कि उत्तर प्रदेश की सीमाओं पर बस परिवहन सेवाओं को सात मई तक बंद करने के निर्णय को लेकर आदेश जारी कर दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि राज्यों की सीमाओं पर आवागमन से संक्रमण को रोकने के उपाय प्रभावित हो रहे हैं। आवागमन के कारण संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने की कार्यवाही भी प्रभावित हो रही है। इसलिये अंतर्राज्यीय सीमाओं को सील करने पर विचार किया गया। मध्य प्रदेश की सीमाएं पांच राज्यों से मिलती हैं, जिनमें महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, राजस्थान एवं गुजरात शामिल हैं। ये सभी देश के 11 सबसे अधिक कोविड-19 प्रभावित राज्यों में शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।