महबूबा मुफ्ती का दावा- मुझे फिर दो दिनों से हिरासत में रखा है, बेटी को भी किया नजरबंद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2020   12:04
महबूबा मुफ्ती का दावा- मुझे फिर दो दिनों से हिरासत में रखा है, बेटी को भी किया नजरबंद

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि दो दिन से उन्हें पर्रा के परिवार से मिलने नहीं दिया जा रहा है, जिन्हें ‘‘निराधार आरोपों’’ पर गिरफ्तार किया गया है। महबूबा ने ट्वीट किया, ‘‘ मुझे एक बार फिर गैरकानूनी तरीके से हिरासत में लिया गया है।

श्रीनगर। पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को दावा कि उन्हें और उनकी बेटी इल्तिजा मुफ्ती को नजरबंद कर दिया गया है और पार्टी नेता वहीद पर्रा के पुलवामा स्थित आवास पर नहीं जाने दिया जा रहा है। पर्रा को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने इस सप्ताह गिरफ्तार कर लिया था। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि दो दिन से उन्हें पर्रा के परिवार से मिलने नहीं दिया जा रहा है, जिन्हें ‘‘निराधार आरोपों’’ पर गिरफ्तार किया गया है। महबूबा ने ट्वीट किया, ‘‘ मुझे एक बार फिर गैरकानूनी तरीके से हिरासत में लिया गया है। दो दिनों से, जम्मू-कश्मीर प्रशासन मुझे पुलवामा में वहीद वर्रा के परिवार से मिलने नहीं दे रहा है। भाजपा के मंत्रियों और उनकी कठपुतलियों को कश्मीर में हर जगह आने-जाने की अनुमति है लेकिन मेरे मामले में सुरक्षा संबंधी समस्या उत्पन्न हो जाती है।’’ 

इसे भी पढ़ें: PDP नेता ने केंद्र पर लगाया आरोप, कहा- कश्मीर में बनाना चाहता है भय का माहौल

उन्होंने कहा कि उनकी बेटी को भी घर में नजरबंद कर दिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘ अत्याचार की कोई सीमा नहीं है। वहीद को निराधार आरोपों के तहत गिरफ्तार कर लिया गया और मुझे उसके परिवार को सांत्वना देने के लिए मिलने नहीं दिया जा रहा। यहां तक कि मेरी बेटी इल्तिजा को भी घर में नजरबंद कर दिया गया है क्याोंकि वह भी वहीद के परिवार से मिलना चाहती है।’’ ‘पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी’ (पीडीपी) की प्रमुख ने कहा कि वह आज दिन में ‘‘विभिन्न मुद्दों’’ पर एक संवाददाता सम्मेलन करेंगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।