मंत्री बिसाहूलाल सिंह का प्रदेश के अलग अलग जिलों में हुआ विरोध, फूंका पुतला और लगाए मुर्दाबाद के नारे

मंत्री बिसाहूलाल सिंह का प्रदेश के अलग अलग जिलों में हुआ विरोध, फूंका पुतला और लगाए मुर्दाबाद के नारे

उमरिया जिले में राजपूत करणी सेना ने खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह का पुतला फूंका है। बिसाहूलाल मुर्दाबाद के नारे लगाए। जिलाध्यक्ष राम सिंह बघेल ने कहा कि एक ओर जहां सूबे के मुखिया शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की हर माताओं बहनों को अपनी बहन और भांजी बताते हैं।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मंत्री बिसाहूलाल सिंह के ‘सवर्ण महिलाओं’ को लेकर दिए बयान पर विरोध शुरू हो गया है। प्रदेश के अलग-अलग जिले में करणी सेना नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन कर रही है। और साथ ही साथ पुतला भी फूंका गया। करणी सेना ने मंत्री बिसाहूलाल से इस्तीफा मांगा है।

इसे भी पढ़ें:एक ही परिवार के 5 लोगों ने खाया जहर, एक बच्ची की हुई मौत 

राजधानी भोपाल में मंत्री बिसाहूलाल के विवादित बोल पर विवाद बढ़ता जा रहा है। करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने बिसाहूलाल के बंगले के बाहर प्रदर्शन किया है। पुलिस ने करणी सेना कार्यकर्ताओं को रास्ते में ही रोक लिया। और आक्रोशित करणी सेना ने बिसाहूलाल का पुतला फूंका।

वहीं अनूपपुर रेलवे स्टेशन करणी सेना के युवाओं ने मंत्री बिसाहूलाल सिंह के मुर्दाबाद के नारे लगाए।अमरकंटक एक्सप्रेस ट्रेन से भोपाल जाने के दौरान अमलाई पहुंची ट्रेन को देख युवाओं ने विरोध में नारेबाजी की।

इसे भी पढ़ें:व्यापम घोटाले में हुआ बड़ा खुलासा, पदों की संख्या से ज्यादा हुई भर्ती 

उमरिया जिले में राजपूत करणी सेना ने खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह का पुतला फूंका है। बिसाहूलाल मुर्दाबाद के नारे लगाए। जिलाध्यक्ष राम सिंह बघेल ने कहा कि एक ओर जहां सूबे के मुखिया शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की हर माताओं बहनों को अपनी बहन और भांजी बताते हैं। वही उनके मंत्री के द्वारा गैर मर्यादित बयान दिया जा रहा है।

आपको बता दें कि अनूपपुर जिले के ग्राम फुनगा में सर्वजन सुखाय सामाजिक संस्था ने नारी रत्न सम्मान समारोह का आयोजन किया था। वहीं प्रदेश के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहूलाल सिंह शामिल होने पहुंचे। उन्होंने कहा कि बड़े-बड़े ठाकुर ठकार अपने घर की महिलाओं को समाज में कंधे से कंधा मिलाकर चलने नहीं देते हैं। बड़े-बड़े लोग ठाकुर ठाकर अपने घर की महिलाओं को घर में कैद करके रखते हैं।

उन्होंने कहा कि समानता लाना है तो उच्च जाति की महिलाओं को भी घर से खींचकर निकालो। उनको भी समाज के साथ काम कराओ, तभी समानता आएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।