मिर्ची बाबा ने की गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात, पूर्व मंत्री पर लगाए आरोप

मिर्ची बाबा ने की गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात, पूर्व मंत्री पर लगाए आरोप

मिर्ची बाबा ने गोविंद सिंह पर बड़े आरोप लगाए। बाबा ने कहा कि भिंड मे साधु संतों का अपमान किया गया है। मैं एक महामंडलेश्वर हूं मेरे साथ 20 हजार से ज्यादा साधु हैं। बाबा ने गोविंद सिंह पर दलितों के अपमान का भी आरोप लगाया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश से बड़ी खबर सामने आई है। कांग्रेसी के करीबी माने जाने वाले मिर्ची बाबा ने प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा से मुलाकात की है। दोनों के बीच बंद कमरे में मुलाकात हुई है। भिंड जिले में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की सभा में अपमान के बाद मिर्ची बाबा गृह मंत्री से मिलने पहुंचे। 

दरअसल इस मुलाकात के बाद मिर्ची बाबा ने गोविंद सिंह पर बड़े आरोप लगाए। बाबा ने कहा कि भिंड मे साधु संतों का अपमान किया गया है। मैं एक महामंडलेश्वर हूं मेरे साथ 20 हजार से ज्यादा साधु हैं। बाबा ने गोविंद सिंह पर दलितों के अपमान का भी आरोप लगाया है। गोविंद सिंह के सारे चिट्ठा खोल दूंगा तो वो बर्बाद हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि पूरे घटनाक्रम को लेकर कमलनाथ से मुलाकात करूंगा।

इसे भी पढ़ें:एमपी बीजेपी की 2 दिवसीय बड़ी बैठक आज से, इन मुद्दों पर करेंगे चर्चा 

वहीं बाबा ने कहा कि नरोत्तम मिश्रा ने मेरा कभी अपमान नहीं किया सिर्फ सम्मान किया है। कुछ दिन पहले मिर्ची बाबा ने नरोत्तम मिश्रा पर अपमान का आरोप लगाया था। अब भिंड मामले के बाद बाबा के सुर बदल गए हैं।

उधर भिंड में कमलनाथ की सभा में मंच से मिर्ची बाबा के भगाने पर गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस ने साधु संतों का अपमान किया है। भिंड में कांग्रेस के मंच से मिर्ची बाबा को उतारना साधु संतों का अपमान है। ये कांग्रेस की प्रवृत्ति रही है।

इसे भी पढ़ें:शिवाजी महाराज की 13वीं पीढ़ी से आते हैं उदयनराजे भोसले, जनता में खूब है लोकप्रियता 

आपको बता दें कि भिंड में बुधवार को कमलनाथ ने बड़ी सभा की थी। भिंड में जन आक्रोश सभा मंच पर पहुंचे मिर्ची बाबा का कांग्रेस ने अपमान किया। कांग्रेस ने उन्हें मंच पर नहीं चढ़ने दिया। पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने मंच पर प्रवेश से पहले वापस लौटा दिया। इस घटना का फोटो सामने आया था। जो कि सोशल मीडिया पर वायरल वायरल हो रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।