टिक टॉक से ज्यादा पॉपुलर हुआ भारतीय ऐप Mitron, 50 लाख से ज्यादा लोगों ने किया डाउनलोड

टिक टॉक से ज्यादा पॉपुलर हुआ भारतीय ऐप Mitron, 50 लाख से ज्यादा लोगों ने किया डाउनलोड

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 31 वर्षीय आईआईटी रुड़की के छात्र शिवांक अग्रवाल ने पांच लोगों से भी कम लोगों वाली अपनी टीम के साथ मिलकर एंड्रॉयड बेस ऐप मित्रों बनाया।

नयी दिल्ली। टिक-टॉक को टक्कर देने वाला भारतीय ऐप मित्रों अप्रैल में लॉन्च हुआ था। लॉन्चिंग के एक माह में अबतक 50 लाख से ज्यादा लोगों ने इस ऐप को डाउनलोड किया है और मित्रों ऐप तेजी से पॉपुलर भी हो रहा है। बता दें कि चाइनीज सोशल मीडिया ऐप टिक टॉक और यूट्यूब के बीच छिड़े विवाद की वजह से टिक टॉक की रेंटिंग काफी ज्यादा कम हो रही हैं और तो और लोग इसे अनस्टॉल भी कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: कैप्टन पर भी छाया 'नूर' का जादू, टिक टॉक के जरिए दे रहे सामाजिक दूरी का संदेश 

लॉन्चिंग के एक माह में गूगल प्ले स्टोर पर मित्रों (Mitron) ऐस दूसरा सबसे ज्यादा डाउनलोड किया जाने वाला ऐप बन गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 31 वर्षीय आईआईटी रुड़की के छात्र शिवांक अग्रवाल ने पांच लोगों से भी कम लोगों वाली अपनी टीम के साथ मिलकर एंड्रॉयड बेस ऐप मित्रों बनाया। हिन्दुस्तान में मित्रों शब्द का इस्तेमाल दोस्तों के लिए किया जाता है। साथ ही साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा भाषण की शुरुआत में अक्सर मित्रों शब्द का इस्तेमाल किया जाता है।

मित्रों ऐप की रेटिंग टिक टॉक से बेहतर 

 मित्रों ऐप बिल्कुल ही चाइनीज ऐप टिक टॉक की ही तरह है। यह यूजर्स को आसान इंटरफेस मुहैया कराता है, जहां पर यूजर्स वीडियो को क्रिएट, एडिट और शेयर कर सकते हैं। अगर इस ऐप को हम टिक टॉक का भारतीय वर्जन कहे तो यह कहा जाना गलत नहीं होगा। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने बस, ट्रेन और फ्लाइट से यात्रा के लिए जारी किए दिशानिर्देश, ये हैं नए नियम 

वैसे तो टिक-टॉक और यूट्यूब के बीच चल रहे विवाद की वजह से भी मित्रों ऐप को काफी ज्यादा लोकप्रियता हासिल हुई है और तो और लोग इसे लगातार डाउनलोड कर रहे हैं। रेटिंग की बात की जाए तो गूगल प्ले स्टोर पर टिक टॉक से ज्यादा रेटिंग मित्रों ऐप की है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।