कांग्रेस का आरोप, ‘चौकीदार’ होने का नाटक कर रहे हैं मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 20, 2019   10:20
कांग्रेस का आरोप, ‘चौकीदार’ होने का नाटक कर रहे हैं मोदी

सुरजेवाला ने कहा, “2016 में मोदी जी ने कहा वह ‘नये भारत’ का निर्माण करेंगे और 2017 में कहा, ‘मेरा देश बदल रहा’ जबकि 2018 में उन्होंने लोगों से कहा कि वह ‘साफ नीयत, सही विकास’ के साथ काम करेंगे।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘‘मैं भी चौकीदार” अभियान पर मंगलवार को तंज करते हुए आरोप लगाया कि वह “चौकीदार” होने का नाटक कर लोगों को बेवकूफ बनाने का प्रयास कर रहे हैं। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि पांच साल सत्ता में रहने के बाद मोदी सरकार के पास लोगों को देने के लिए कुछ नहीं है और इसलिए वह ऐसे अभियान का सहारा ले रही हैं। 

उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “मोदी अपने ब्रांड को फिर से बेचने की कोशिश कर रहे हैं जो पहले ही फ्लॉप हो चुका है और इसलिए अपने लक्ष्य को पाने के लिए अब उसकी पैकेजिंग, नाम एवं रंग बदल दिया है।” सुरजेवाला ने दावा किया कि 2013 में मोदी ने विदेशों में जमा 80 लाख करोड़ रुपये का काला धन वापस लाने और 15 लाख रुपये प्रत्येक व्यक्ति के खाते में जमा करने का वादा किया था। उन्होंने कहा, “2014 में चुनावों से ठीक पहले उन्होंने देश में ‘अच्छे दिन’ लाने का लोगों से वादा किया था और 2015 में इसे बदल कर ‘सबका साथ, सबका विकास’ कर दिया।

इसे भी पढ़ें: राहुल ने मोदी की देशभक्ति पर उठाए सवाल, पूछा- चीन के सामने चुप्पी क्यों

सुरजेवाला ने कहा, “2016 में मोदी जी ने कहा वह ‘नये भारत’ का निर्माण करेंगे और 2017 में कहा, ‘मेरा देश बदल रहा’ जबकि 2018 में उन्होंने लोगों से कहा कि वह ‘साफ नीयत, सही विकास’ के साथ काम करेंगे। 2019 में मोदी ने कहा, ‘मैं भी चौकीदार’।” कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री अपनी हार निश्चित मान रहे हैं और “भ्रमित” हो गए हैं। इसलिए वह अपने चुनावी नारे बार बार बदल रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।