घोर परिवारवादी लोग अफवाहवादी, पलायनवादी और अंधविश्वासी भी हैं, नहीं कर सकते यूपी का विकास

घोर परिवारवादी लोग अफवाहवादी, पलायनवादी और अंधविश्वासी भी हैं, नहीं कर सकते यूपी का विकास

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव प्रचार के लिए प्रयागराज पहुंचे थे जहां पांचवें चरण में मतदान होने हैं। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी का यूपी आकांक्षी है। बड़े सपने लेकर आगे बढ़ रहा है। डबल इंजन की सरकार यूपी को विकसित बनाने में दिन-रात जुटी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक बार फिर से समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव पर जमकर प्रहार करते हुए बड़ा आरोप लगाया। प्रधानमंत्री ने कहा कि घोर परिवारवादी कभी सशक्त और आधुनिक उत्तर प्रदेश का निर्माण नहीं कर सकते हैं। यह ऐसे लोग हैं जो अफवाहवादी, पलायनवादी और घोर अंधविश्वासी भी हैं। यह कैसे लोग हैं और उनका अंधविश्वास कैसा है कि उनकी कुर्सी न चली जाए इसके लिए यह लोग नोएडा, बिजनौर नहीं जाते। उन्होंने कहा कि बिजनौर और नोएडा से जो टैक्स आता है उसमें मलाई मारने को तैयार लेकिन वहां के लोगों से मिलने जाना, उनके सुख-दुख पूछना उसमें अंधविश्वास आड़े आ जाए। क्या ऐसे लोग उत्तर प्रदेश का भला और आधुनिक उत्तर प्रदेश बना सकते हैं?

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनाव प्रचार के लिए प्रयागराज पहुंचे थे जहां पांचवें चरण में मतदान होने हैं। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी का यूपी आकांक्षी है। बड़े सपने लेकर आगे बढ़ रहा है। डबल इंजन की सरकार यूपी को विकसित बनाने में दिन-रात जुटी है। 21वीं सदी के यूपी की आकांक्षाएं पूरी हों, इसमें नेतृत्व की बहुत बड़ी भूमिका है। इसलिए सवाल ये भी है कि नेतृत्व कैसा होना चाहिए। मोदी ने कहा कि प्रयागराज की प्रतिष्ठा यहां के बुद्धिजीवी लोगों, यहां की संस्कृति, साहित्य और कला प्रेम से भी है। आप सभी प्रबुद्ध लोग इस बात से तो परिचित हैं कि बदली विश्व व्यवस्था में भारत का मजबूत होना कितना जरुरी है। मजबूत भारत, सशक्त उत्तर प्रदेश के बिना संभव नहीं। 

इसे भी पढ़ें: रूस-अमेरिका के बीच झगड़े पर मोदी सरकार के स्टैंड को लेकर इतनी चर्चा क्यों? युद्ध की नीति पर नहीं चलता भारत

मोदी ने सवाल किया कि नौकरी के नाम पर पिछली सरकारों के आयोग में बैठे लोग किस योग्यता को जरूरी मानते थे? इनके लिए योग्यता की अहमियत नहीं, बल्कि सिफारिश, जातिवाद और नोटों के बंडल ही सब कुछ थे। उन्होंने कहा कि ये लोग नौकरी के नाम पर फिर उत्तर प्रदेश के युवाओं को धोखा दे रहे हैं। सच्चाई ये है कि इन लोगों ने अपने 10 साल के शासन में सिर्फ 2 लाख लोगों को सरकारी नौकरी दी। वो भी भाई-भतीजावाद, जातिवाद, पैसों के बंडल के आधार पर। जबकि योगी आदित्यनाथ की सरकार ने 5 लाख नौजवानों को सरकारी नौकरी दी। मोदी ने कहा कि पहले उत्तर प्रदेश में पीसीएस की परीक्षा का सिलेबस यूपीएससी से अलग होता था। हमारी सरकार ने आपकी ये परेशानी समझी और आज यूपी पीसीएस और यूपीएससी का सिलेबस एक जैसा कर दिया। अब उतनी ही मेहनत से आप दोनों परीक्षाएं दे सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: मोदी का समाजवादी पार्टी पर निशाना, बोले- परिवारवादी लोग जमीनी हकीकत से दूर, जनता हमारी ताकत

मोदी ने दावा किया कि पहले की सरकारों में विकास के काम न होने की एक और बहुत बड़ी वजह थी- जातिवाद और भाई-भतीजावाद। परियोजना बनने से लेकर पास होने तक और उसके काम शुरु होने से पहले ठेकेदारी तक में भाई-भतीजावाद। कुंभ जैसे पवित्र काम में भी ये गोरख धंधे इन्होंने किये। योगी की सरकार में आपके सहयोग से संपन्न हुए कुंभ के दिव्य और भव्य आयोजन को दुनिया ने सराहा है।  यूनेस्को ने हमारी इस कुंभ की परंपरा को विश्व विरासत का दर्जा दिया है। जिस तरह पहले की सरकारों ने यूपी के नौजवानों को धोखा दिया, वैसे ही प्रयागराज को भी विकास के लिए तरसा कर रखा। जिन्हें प्रयागराज नाम से ही चिढ़ हो, वो प्रयागराज का विकास करेंगे क्या? मोदी ने आरोप लगाया कि घोर परिवारवादियों ने इतने दशकों तक संप्रदायवाद की, जातिवाद की, क्षेत्रवाद की राजनीति की। इनकी राजनीति का दायरा संकुचित है, सीमित है, संकीर्ण है। भाजपा की राजनीति का दायरा विस्तृत है, विशाल है, सर्व समावेशी है।

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।