मनरेगा में आठ लाख से अधिक प्रवासी श्रमिकों को मिला रोजगार: सचिन पायलट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 30, 2020   20:41
मनरेगा में आठ लाख से अधिक प्रवासी श्रमिकों को मिला रोजगार: सचिन पायलट

0 मई को वर्ष 2019-20 में राज्य में जहां 33.02 लाख श्रमिक नियोजित थे वहीं इस वर्ष 42.80 लाख श्रमिक नियोजित हुए हैं। इस प्रकार मनरेगा योजना के तहत इस वर्ष लगभग दस लाख अधिक श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है।

जयपुर। उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने शनिवार को कहा कि देश के अन्य राज्यों से रोजगार के अभाव में प्रदेश में लौटे श्रमिकों तथा स्थानीय स्तर पर रोजगार से वंचित श्रमिकों के लिए मनरेगा योजना वरदान साबित हो रही हैं। उन्होंने बताया कि 30 मई को वर्ष 2019-20 में राज्य में जहां 33.02 लाख श्रमिक नियोजित थे वहीं इस वर्ष 42.80 लाख श्रमिक नियोजित हुए हैं। इस प्रकार मनरेगा योजना के तहत इस वर्ष लगभग दस लाख अधिक श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है।

पायलट ने शनिवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा सरपंचों व अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंस के जरिए संवाद में भाग लिया। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के कारण लागू बंद से जहां रोजगार के लगभग अन्य सभी अवसर बंद हो गये है, ऐसे समय में मनरेगा योजना ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब एवं पिछड़े लोगों के लिए संजीवनी साबित हुई हैं। मनरेगा योजना में रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए विभिन्न राज्यों से लौटे 1.77 लाख प्रवासी श्रमिकों के रोजगार कार्ड भी जारी किये जा चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: सचिन पायलट की मांग, श्रमिकों के लिए देशव्यापी नीति बनाए केंद्र सरकार

पायलट ने कहा कि प्रदेशभर में भीषण गर्मी का दौर चल रहा है तथा मौसम विभाग द्वारा भी 27 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया गया है। इस भीषण गर्मी में मनरेगा श्रमिकों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए केन्द्र सरकार से मांग की गई है कि मनरेगा के तहत श्रमिकों के लिए निर्धारित कार्य समय में कमी की जाये जिससे श्रमिक लगभग 11 बजे तक कार्य निपटा कर घर लौट सकें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।