MP के गुना मुठभेड़ के बाद एक्शन में सरकार, आरोपितों के घरों पर चला 'मामा का बुलडोजर'

MP के गुना मुठभेड़ के बाद एक्शन में सरकार, आरोपितों के घरों पर चला 'मामा का बुलडोजर'
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

गुना घटना से जुड़े हुए कुछ संदिग्ध शिकारियों को हिरासत में लिया गया है और आरोपियों के ठिकाने से हथियार भी मिलने की सूचना है। बताया जा रहा है कि आरोपियों के घरों में बुलडोजर की कार्यवाही हो रही है। पुलिस अधीक्षक गुना राजीव मिश्रा ने कहा कि गुना के आरोन थाना क्षेत्र के जंगल में शिकारियों ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया।

भोपाल। मध्य प्रदेश के गुना में शनिवार तड़के शिकारियों द्वारा की गई गोलीबारी में 3 पुलिसकर्मियों की मौत हो गई। जिसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना को लेकर एक उच्चस्तरीय बैठक की और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया। इसी बीच खबर सामने आ रही है कि घटना से जुड़े कुछ आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है और आरोपियों के घरों पर मामा का बुलडोजर चल रहा है। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश: गुना में 3 पुलिसवालों की गोली मारकर हत्या, राज्य गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दी जानकारी 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, गुना घटना से जुड़े हुए कुछ संदिग्ध शिकारियों को हिरासत में लिया गया है और आरोपियों के ठिकाने से हथियार भी मिलने की सूचना है। बताया जा रहा है कि आरोपियों के घरों में बुलडोजर की कार्यवाही हो रही है। पुलिस अधीक्षक गुना राजीव मिश्रा ने कहा कि गुना के आरोन थाना क्षेत्र के जंगल में शिकारियों ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया। शिकारियों ने 3 पुलिसकर्मियों आरोन थाने के एसआई, हेड कांस्टेबल व आरक्षक की गोली मारकर हत्या कर दी। 

इसे भी पढ़ें: UP के बाद अब मध्य प्रदेश के मदरसों में भी राष्ट्रगान होगा अनिवार्य? नरोत्तम मिश्रा ने दिए संकेत 

IG का किया तबादला

इस घटना को लेकर मुख्यमंत्री चौहान ने एक उच्चस्तरीय बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपए की सहायता राशि और सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया। इसके साथ ही उन्होंने घटनास्थल पर देरी से पहुंचने वाले ग्वालियर क्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) अनिल शर्मा का तबादला कर दिया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।