मनोबल ऊंचा रखें तो कोई भी लक्ष्य कठिन नहीं: रघुवर दास

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2019   17:52
मनोबल ऊंचा रखें तो कोई भी लक्ष्य कठिन नहीं: रघुवर दास

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मैं आपको बताना चाहता हूं कि किस प्रकार की परिस्थिति से निकलकर मैं इस पद पर पहुंचा हूं। मैं एक मजदूर परिवार से आता हूं। रांची विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट, एलएलबी की डिग्री लिया और फिर टाटा कंपनी में मजदूरी की।

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सोमवार को यहां जोर देकर कहा कि युवा यदि कोई निश्चय कर लें तो उन्हें उनके संकल्प से कोई डिगा नहीं सकता क्योंकि मनुष्य मनोबल ऊंचा रखे तो कोई भी लक्ष्य कठिन नहीं होता है।मुख्यमंत्री रघुवर दास ने यहां रांची विश्वविद्यालय के 33वें दीक्षान्त समारोह में अपने संबोधन में यह बात कही। उन्होंने दीक्षान्त समारोह में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले छात्रों की ओर मुखातिब होते हुए कहा, ‘‘इस गोल्ड मेडल से आपकी जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है। आप सच्ची निष्ठा और कर्तव्य के उच्च मापदंडों के साथ अपने प्रयास जारी रखें। कोई भी काम आपके मनोबल से बड़ा नहीं होता।’’ उन्होंने कहा कि अगर मन में अटल विश्वास के साथ काम करने की नीयत हो तो हर काम को अंजाम दिया जा सकता है। उन्होंने छात्रों से कहा कि निराशा से काम नहीं चलेगा। 

इसे भी पढ़ें: भारी बारिश के कारण राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का गुमला और देवघर का कार्यक्रम रद्द

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मैं आपको बताना चाहता हूं कि किस प्रकार की परिस्थिति से निकलकर मैं इस पद पर पहुंचा हूं। मैं एक मजदूर परिवार से आता हूं। रांची विश्वविद्यालय से ग्रेजुएट, एलएलबी की डिग्री लिया और फिर टाटा कंपनी में मजदूरी की। मजदूरी करते करते एमएलए बना और आज राज्य का मुख्य सेवक बना।’’  उन्होंने कहा, ‘‘यह उन लोगों के लिए एक संदेश है, जो पढ़े-लिखे होने के बाद भी निराश होते हैं। निराशा से काम नहीं चलेगा। आप संघर्ष कीजिए और जीवन मूल्यों के लिए संघर्ष कीजिए। उसका परिणाम निकलेगा आज मैं आपको यही बताना चाहता हूं।’’

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री के प्रयासों ने स्वच्छ भारत को एक आंदोलन बनाया: रघुवर दास

दास ने कहा कि शिक्षा संस्थाओं में ऐसी परिस्थिति उत्पन्न करने की आवश्यकता है जिससे शिक्षा पूर्ण होते ही नियोजक स्वयं आपके विश्वविद्यालय द्वार पर आए।  मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्वविद्यालय की शिक्षा पूरी करने के पश्चात छात्रों के समूह की बड़ी चिंता नौकरी और रोजी-रोटी ढूंढने की है। रोजगार के अवसर की कमी यहां नहीं है। आज रोजगार के लिये कृषि के क्षेत्र में, उद्योग के क्षेत्र में, सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में, पर्यटन के क्षेत्र में भी काफी अवसर हैं। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का दीक्षान्त समारोह में आने के लिए धन्यवाद किया। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।