दो महीने नहीं होगी ‘मन की बात’, मई में वापसी का मोदी ने किया वादा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 24, 2019   12:51
दो महीने नहीं होगी ‘मन की बात’, मई में वापसी का मोदी ने किया वादा

उनका कहना है कि यह आचार संहिता का उल्लंघन है क्योंकि इस संवाद से प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का राजनीतिक उद्देश्यों के लिए दुरूपयोग होता है।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को कहा कि मार्च और अप्रैल के महीनों में आम चुनावों के मद्देनजर ‘मन की बात’ कार्यक्रम का प्रसारण नहीं होगा। हालांकि उन्होंने मई, 2019 के अंतिम रविवार से वापसी की घोषणा भी की। यदि आम चुनाव मार्च और अप्रैल में होते हैं तो मई के अंतिम रविवार से पहले यह स्पष्ट हो जाएगा कि अगली सरकार किसकी बनेगी। अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने कहा कि वह स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपराओं को ध्यान में रखते हुए ऐसा कर रहे हैं। 2014 में सत्ता में मोदी के आने के बाद से यह कार्यक्रम का 53वां प्रसारण था।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘चुनाव लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव होता है। अगले दो महीनों में, हम आम चुनावों में व्यस्त रहेंगे। मैं भी उम्मीदवार होऊंगा। स्वस्थ लोकतांत्रिक परंपराओं का सम्मान करते हुए, मन की बात का अगला संस्करण मई के अंतिम रविवार (26 मई) को प्रसारित होगा।’’ 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश का युवा देश-विदेश में मनवा रहा है अपना लोहा: योगी

विपक्षी दल चुनाव के दौरान ‘मन की बात’ के प्रसारण पर रोक लगाने की मांग करते रहे हैं। उनका कहना है कि यह आचार संहिता का उल्लंघन है क्योंकि इस संवाद से प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का राजनीतिक उद्देश्यों के लिए दुरूपयोग होता है। सत्ता में वापसी का विश्वास जताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि ‘आपके आशीर्वाद की ताकत’ से वह मई से कार्यक्रम के तहत संवाद की श्रृंखला शुरू करेंगे और ‘मन की बात’ के माध्यम से लोगों के साथ आने वाले वर्षों में बातचीत करेंगे। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...