• अब मेडिकल फाइल ले जाने की जरूरत नहीं, यूनिक हेल्थ आईडी में होगी सारी जानकारी

आपको बता दें कि आधार कार्ड और मोबाइल नंबर के माध्यम से यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी जेनरेट होगी। जिसमें पेशेंट की सारी जानकारी होगी। ऐसे में पेशेंट को अपनी मेडिकल फाइल लेकर जाने की आवश्यकता नहीं होगी।

नयी दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार देशवासियों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए कटिबद्ध है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 सितंबर को प्रधानमंत्री डिजिटल स्वास्थ्य योजना की शुरुआत करेंगे। मनसुख मांडविया ने गुरुवार को ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया कि प्रधानमंत्री 27 सितंबर को प्रधानमंत्री डिजिटल स्वास्थ्य मिशन की घोषणा करेंगे। इसके तहत लोगों को एक यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी प्रदान की जाएगी। जिसमें व्यक्ति के सभी स्वास्थ्य रिकॉर्ड होंगे। 

इसे भी पढ़ें: कोविड योद्धाओं की जिंदगी की सुरक्षा सुनिश्चित करे पुलिस: उच्च न्यायालय  

आपको बता दें कि आधार कार्ड और मोबाइल नंबर के माध्यम से यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी जेनरेट होगी। जिसमें पेशेंट की सारी जानकारी होगी। ऐसे में पेशेंट को अपनी मेडिकल फाइल लेकर जाने की आवश्यकता नहीं होगी। यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी में ही उनकी सारी जानकारी मौजूद रहेगी। दरअसल, इसके माध्यम से मोदी सरकार स्वास्थ्य क्षेत्र को और मजबूत बनाने की कोशिशें कर रही है।

14 अंक की होगी हेल्थ आईडी

प्राप्त जानकारी के मुताबिक यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी 14 अंकों का एक यूनिक नंबर होगा। अभी इसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर चलाया जा रहा था लेकिन 27 सितंबर को इसे देशभर के लॉन्च किया जाएगा।

कैसे बनेगी हेल्थ आईडी

यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी बनाने के लिए मोबाइल नंबर और आधार कार्ड की जरूरत होगी। लेकिन आधार कार्ड का नंबर अनिवार्य नहीं है। क्योंकि इसके बिना भी हेल्थ आईडी जेनरेट हो सकती है। इसके लिए ऐप बनाया जाएगा। वहीं जिनके पास मोबाइल फोन नहीं है या फिर जिन्हें चलाना नहीं आता है उन्हें परेशान होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि अस्पताल में भी पेशेंट की यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी बनाने की व्यवस्था होगी। 

इसे भी पढ़ें: केंद्र ने दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी पर राजनीति की, मौतों को छिपाने का प्रयास किया : जैन 

एक क्लिक में मिलेगी सारी जानकारी

यूनिक डिजिटल हेल्थ आईडी में पेशेंट का सारा लेखा-जोखा होगा। मतलब उसने कौन-कौन सा टेस्ट कराया है या फिर कौन-कौन सी दवाईयां लेता है। इसके अलावा डॉक्टर जो भी दवाईयां पेशेंट को देंगे या फिर टेस्ट करवाएंगे, उसकी जानकारी अस्पताल प्रबंधन हेल्थ आईडी में अपडेट कर देंगे।