स्वतंत्र भारत में ऐसी यातनाएं दी जाएंगी किसी ने कल्पना नहीं की होगीः शिवराज सिंह

स्वतंत्र भारत में ऐसी यातनाएं दी जाएंगी किसी ने कल्पना नहीं की होगीः शिवराज सिंह

स्वतंत्र भारत में लोगों को इस तरह की यातनाएं दी जाएंगी, किसी ने ऐसी कल्पना नहीं की थी। 25 जून का दिन भारत के लोकतंत्र के इतिहास का सबसे काला दिन था, जब आपातकाल लगाया गया। मेरे हमउम्र 16-17 साल के कार्यकर्ताओं तक को जेल में डाल दिया गया। आज भी कांग्रेस उसी मानसिकता से काम कर रही है।

भोपाल। आपातकाल की बरसी 25 जून को भारतीय जनता पार्टी ‘काला दिवस’ के रूप मना रही है। इस अवसर पर पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आपातकाल की मुश्किलों पर केंद्रित चित्र प्रदर्शनी लगाई गई है। गुरुवार सुबह मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा एवं प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत ने इस चित्र प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि आपातकाल के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने जनता पर अमानवीय अत्याचार कराए, लोगों को पीटा गया,  करंट लगाया गया, बर्फ की सिल्लियों पर लिटाया गया। स्वतंत्र भारत में लोगों को इस तरह की यातनाएं दी जाएंगी, किसी ने ऐसी कल्पना नहीं की थी। 25 जून का दिन भारत के लोकतंत्र के इतिहास का सबसे काला दिन था,  जब आपातकाल लगाया गया। मेरे हमउम्र 16-17 साल के कार्यकर्ताओं तक को जेल में डाल दिया गया। आज भी कांग्रेस उसी मानसिकता से काम कर रही है। आपातकाल जैसा काला अध्याय कांग्रेस की प्रवृत्ति है और भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस के इस चरित्र की निंदा करती है। 

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि के विरोध में साइकिल रैली निकाली, दिग्विजय के खिलाफ FIR दर्ज

सत्ता में बने रहने के लिए लोकतंत्र को कुचल दिया

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा कि आज 25 जून है और 1975 में आज ही के दिन आपातकाल घोषित किया गया था। एक खानदान जिसने वर्षों तक सरकार चलाई, उसमें सत्ता की लोलुपता इतनी ज्यादा थी कि कोर्ट के फैसले को ही नहीं माना। जयप्रकाश नारायण जी ने जब ‘सिंहासन खाली करो कि जनता आती है’ का नारा दिया, तो कांग्रेस की सरकार ने लोकतंत्र को कुचल दिया। संविधान की धज्जियां उड़ा दीं और पूरे देश को जेल बना दिया। लोकनायक जयप्रकाश नारायण, अटलबिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी जी जैसे उन नेताओं को जेलों में डाल दिया गया, जो सरकार के इस फैसले से असहमति रखते थे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जैसे अनेकों संगठनों के कार्यकर्ताओं को जेल में डाल दिया गया।  

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में 01 जुलाई से

कांग्रेस के राजनीति चरित्र की अच्छी तरह समझता है देश

चौहान ने कहा कि आज भारत के प्रधानमंत्री दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता नरेंद्र मोदी जी हैं और देश का लोकतंत्र मजबूत है, परिपक्व है। हर देशवासी यह संकल्प लेता है कि हम अपने लोकतंत्र को और मजबूत बनाएंगे। लेकिन एक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे नेता उनके बारे में लगातार जिस तरह की टिप्पणियां करते हैं,  वह कांग्रेस के राजनीतिक चरित्र को उजागर करती हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस यह जान ले कि देश और उसकी जनता कांग्रेस के राजनीतिक चरित्र को बहुत अच्छी तरह समझती है। इसलिए कांग्रेस के षडयंत्र कभी सफल नहीं होंगे। चौहान ने कहा कि देश की सीमाओं पर यदि कोई संकट है तो देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में सारा देश एकसाथ खड़ा है और हमारी बहादुर सेनाएं हर चुनौती का मुकाबला करने के लिए तैयार हैं।

इसे भी पढ़ें: सीएम शिवराज सिंह के निशाने पर आए जीतू पटवारी, ट्वीट पर शुरू हुई सियासत

कांग्रेस ने इमरजेंसी लगाकर काला इतिहास लिखा

प्रदेश अध्यक्ष व सांसद विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि आज ही के दिन 1975 में इंदिरा गांधी की सरकार ने आपातकाल की घोषणा करके लोकतंत्र की हत्या कर दी थी। इसलिए 25 जून की तारीख भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में काले दिन के रूप में दर्ज हो गई है। आपातकाल के दौरान लोकतंत्र की रक्षा के लिए लोकतंत्र सेनानियों ने लंबा संघर्ष किया और अपने प्राणों का बलिदान तक कर दिया था। कांग्रेस ने देश में किस प्रकार से लोकतंत्र की हत्या की, देश में किस प्रकार श्रीमती इंदिरा गांधी ने इंमरजेंसी लगाकर काला इतिहास लिखा। कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी सहित विचार परिवार के लोगों पर आक्रमण किया जिनमें मुख्यमंत्री जी सहित वरिष्ठ नेता थे, उन्हें प्रताड़ना दी गई। आज भारतीय जनता पार्टी की भोपाल इकाई ने जो प्रदर्शनी लगाई है कि लोकतंत्र की हत्यारी कांग्रेस और आपातकाल के दौरान मध्य प्रदेश में जो घटित हुआ उसको हम इस प्रदर्शनी में देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि आपातकाल के समय प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान छात्र के रूप में प्रत्यक्षदर्शी थे और प्रताड़ना देकर जेल के अंदर डाल दिया गया था। उन्होंने कहा कि कुशाभाऊ ठाकरे, राजमाता विजयाराजे सिंधिया सहित जिन्होंने भारतीय जनता पार्टी को सींचा और खड़ा किया ऐसे लाखों लोगों पर इमरजेंसी में देश और मध्य प्रदेश के अंदर अत्याचार किए गए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...