जयशंकर ने ट्रंप के दावे को नकारा, कहा- मोदी ने नहीं की मध्यस्थता की बात

By अनुराग गुप्ता | Publish Date: Jul 23 2019 11:50AM
जयशंकर ने ट्रंप के दावे को नकारा, कहा- मोदी ने नहीं की मध्यस्थता की बात
Image Source: Google

एस जयशंकर ने कहा कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच एक द्विपक्षीय मुद्दा है। इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री की तरफ से किसी भी तरह की मध्यस्थता की पेशकश नहीं की गई है।

नई दिल्ली। कश्मीर मुद्दे को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा दिए गए बयान के बाद भारतीय संसद में जमकर हंगामा हुआ। मंगलवार की सुबह जैसे ही दोनों सदनों की कार्रवाई शुरू हुई तो इस मामले को उठाया गया और फिर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने आधिकारिक बयान साझा किया। राज्यसभा में एस जयशंकर ने कहा कि कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच एक द्विपक्षीय मुद्दा है। इस मामले को लेकर प्रधानमंत्री की तरफ से किसी भी तरह की मध्यस्थता की पेशकश नहीं की गई है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर पर ट्रंप की टिप्पणी से प्रभावित हो सकते हैं भारत-अमेरिकी संबंध: पूर्व राजनयिक

जयशंकर ने डोनाल्ड ट्रंप के दावे को सिरे से नकारते हुए कहा कि हम सदन को पूरी तरह आश्वस्त करना चाहेंगे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया है। इसी के साथ उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि पाकिस्तान के साथ सभी लंबित मुद्दों का समाधान द्विपक्षीय तरीके से ही किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ कोई भी बातचीत सीमा पार से जारी आतंकवाद बंद होने के बाद, लाहौर घोषणापत्र और शिमला समझौते के अंतर्गत ही होगी।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर मुद्दे पर बोले इमरान खान, इसे दो पक्ष नहीं सुलझा सकते



गौरतलब है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ मुलाकात के बाद सोमवार को डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीर मुद्दे पर उनसे मध्यस्थता करने के लिए कहा था। भारत सरकार ने हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के इस विवादास्पद दावे को स्पष्ट तौर पर खारिज कर दिया है। भारतीय विदेश मंत्रालय का कहना है कि कश्मीर द्विपक्षीय मुद्दा है और इसमें तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video