टीकाकरण का कोई विकल्प नहीं, यह हर व्यक्ति के लिए लाभदायक: जितेंद्र सिंह

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 23, 2021   20:04
टीकाकरण का कोई विकल्प नहीं, यह हर व्यक्ति के लिए लाभदायक: जितेंद्र सिंह

प्रसिद्ध चिकित्सक और मधुमेह विशेषज्ञ सिंह ने विभिन्न चिकित्सा शोध के निष्कर्षों का हवाला दिया, जिसमें बताया गया है कि कोविड-19 का टीका इस घातक वायरस के खिलाफ ढाल नहीं बनाता बल्कि बीमारी की गंभीरता को कम करने में सहायता करता है।

नयी दिल्ली। सभी पात्र व्यक्तियों को कोविड-19 टीका लगवाने के लिए प्रोत्साहित करते हुए केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने रविवार को कहा कि टीकाकरण संक्रमण के खिलाफ मजबूत प्रतिरोधक के तौर पर कार्य करता है और इसका कोई अन्य विकल्प नहीं है। प्रसिद्ध चिकित्सक और मधुमेह विशेषज्ञ सिंह ने विभिन्न चिकित्सा शोध के निष्कर्षों का हवाला दिया, जिसमें बताया गया है कि कोविड-19 का टीका इस घातक वायरस के खिलाफ ढाल नहीं बनाता बल्कि बीमारी की गंभीरता को कम करने में सहायता करता है। 

इसे भी पढ़ें: खुशनुमा हुआ व्हाइट हाउस का माहौल, अधिकतर ने उतारे मास्क, गले मिलने का दौर शुरू

उन्होंने कहा कि टीकाकरण का कोई विकल्प नहीं है और हर पात्र व्यक्ति को टीका अवश्य लगवाना चाहिए क्योंकि ये लाभदायक है। कार्मिक राज्यमंत्री सिंह ने कहा, अगर टीकाकरण के बाद कोविड संक्रमण होता भी है तो यह कम गंभीर होगा। टीकाकरण कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ 100 फीसदी सुरक्षा प्रदान नहीं सकता, फिर भी यह बीमारी की गंभीरता के खिलाफ मजबूत प्रतिरोधक के तौर पर कार्य करता है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जहां टीके की दोनों खुराक लेने के बावजूद लोग संक्रमण की चपेट में आए। 

इसे भी पढ़ें: जगन मोहन रेड्डी ने केंद्र से कहा, निजी अस्पतालों को नहीं दे कोरोना वैक्सीन

उन्होंने कहा कि वह खुद भी टीके की दोनों खुराक लेने के बावजूद संक्रमित हो गए थे। हालांकि, मंत्री ने कहा कि ऐसे मामलों में टीके लगवा चुके व्यक्ति के गंभीर रूप से बीमार होने और जान जाने का खतरा बेहद कम होता है। उन्होंने कहा कि टीके की दोनों खुराक लेने के बाद भी लोगों को कोविड से बचाव संबंधी नियमों का पालन करना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।