सरकार की सदबुद्धि के लिए एनएसयूआई ने किया यज्ञ, ऑनलाईन परीक्षा की उठाई मांग

सरकार की सदबुद्धि के लिए एनएसयूआई ने किया यज्ञ, ऑनलाईन परीक्षा की उठाई मांग

रवि परमार ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। हर दिन सात हजार से अधिक मरीज मिल रहे हैं। इसके बाद भी सरकार ऑफलाइन परीक्षा कराने पर डटी हुई है। सरकार को सद्बुद्धि देने के लिए हमने ‘सद्बुद्धि यज्ञ’ किया।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना काल में कॉलेजों में ऑफलाइन परीक्षाएं कराने का विरोध तेज हो गया है। भोपाल में एनएसयूआई और छात्रों ने ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में ‘सद्बुद्धि यज्ञ’ किया।एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने यज्ञ कर सरकार के सद्बुद्धि के लिए कामना की।

वहीं उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के निजी सचिव विजय बुधवानी द्वारा छात्रों को चांटा मारने और बदतमीजी पर 24 घंटे में छात्रों से माफी मांगने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि अगर माफी नहीं मांगी तो मंत्री मोहन यादव के बंगले का घेराव करेंगे।

इसे भी पढ़ें:घर-घर पानी पहुंचाने की योजना हुई असफल, खाली बर्तन लेकर रहवासियों ने किया चक्काजाम 

एनएसयूआई के मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। हर दिन सात हजार से अधिक मरीज मिल रहे हैं। इसके बाद भी सरकार ऑफलाइन परीक्षा कराने पर डटी हुई है। सरकार को सद्बुद्धि देने के लिए हमने ‘सद्बुद्धि यज्ञ’ किया। कोरोना संक्रमण को देखते हुए हम कॉलेजों में ऑनलाइन परीक्षाएं करवाने की मांग करते हैं। 

दरअसल उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव के निजी सचिव विजय बुधवानी द्वारा छात्रों से बदतमीजी और चांटा मारने की धमकी पर एनएसयूआई ने मंत्री मोहन यादव और निजी सचिव विजय बुधवानी से छात्रों से माफी मांगने की चेतावनी दी है। रवि ने कहा कि सचिव और उनके मंत्री 24 घंटे में छात्रों से माफी मांगे। अगर माफी नहीं मांगी तो मंत्री मोहन यादव के बंगले का घेराव करेंगे। 

इसे भी पढ़ें:चाइनीज मांझा बेचने वालों के ठिकानों पर चला बुलडोजर, CM के आदेश पर हुई कार्यवाही 

आपको बता दें कि सोमवार को हमीदिया महाविद्यालय के छात्र उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव से मिलने के लिए उनके निवास पर पहुंचे हुए थे। इस दौरान उच्च शिक्षा के निज सचिव विजय बुधानी ने छात्रों से न केवल अभद्रता की, बल्कि उनको थप्पड़ तक मारने की धमकी दे दी। लेकिन छात्रों को मंत्री से नहीं मिलने दिया गया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।