पटेल के निधन पर गहलोत ने कहा, करीबी दोस्त और विश्वसनीय साथी खोया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2020   14:44
पटेल के निधन पर गहलोत ने कहा, करीबी दोस्त और विश्वसनीय साथी खोया

गहलोत के कहा कि अहमद पटेल ने पूरा जीवन कांग्रेस पार्टी के लिये समर्पित कर दिया और राजीव गांधी के साथ 1985 में प्रधानमंत्री के संसदीय सचिव के रूप में और फिर गुजरात प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष,अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव तथा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव के रूप में सफलतापूर्वक जिम्मेदारियों को निभाने का एक इतिहास बनाया।

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने पार्टी नेता अहमद पटेल के निधन पर बुधवार को शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने एक करीबी दोस्त और विश्वसनीय साथी खो दिया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और गुजरात से राज्यसभा सांसद अहमद पटेल का बुधवार सुबह निधन हो गया। गहलोत ने पटेल के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया,‘‘ राजनीति से हटकर मेरे घनिष्ठ मित्र अहमद भाई के देहांत से मुझे गहरा आघात लगा। उनका इस तरह जाना मेरे लिये व्यक्तिगत क्षति है। आज मैंने अपना एक करीबी दोस्त और विश्वसनीय साथी खोया है। अहमद भाई की कमी को कोई भी पूरा नहीं कर पायेगा।’’

गहलोत के कहा कि अहमद पटेल ने पूरा जीवन कांग्रेस पार्टी के लिये समर्पित कर दिया और राजीव गांधी के साथ 1985 में प्रधानमंत्री के संसदीय सचिव के रूप में और फिर गुजरात प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष,अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव तथा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव के रूप में सफलतापूर्वक जिम्मेदारियों को निभाने का एक इतिहास बनाया। मुख्यमंत्री के अनुसार पटेल ने चार दशक से भी ज्यादा के अपने राजनीतिक जीवन में सत्ता से दूर रहकर भी हमेशा कांग्रेस को एकजुट रखने की प्रतिबद्धता निभाई। पार्टी ने पटेल के निधन पर बुधवार को समस्त जिला कांग्रेस कार्यालयों में शोक सभाएं रखी हैं और सम्मानस्वरूप पार्टी ध्वज भी आधा झुका रहेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।