पूर्व महापौर आलोक शर्मा की शिकायत पर भोपाल पुलिस ने किया धार्मिक भावनाएं भड़काने का मामला दर्ज

पूर्व महापौर आलोक शर्मा की शिकायत पर भोपाल पुलिस ने किया धार्मिक भावनाएं भड़काने का मामला दर्ज

पूर्व महापौर आलोक शर्मा ने बताया कि वह और उनके परिचित व्यापारी कुछ सोशल मीडिया ग्रुप से जुड़े हैं। इसी ग्रुप में रविवार को एक मैसेज सर्कुलेट हुआ। इसमें जैन समाज के संत को लेकर आपत्तिजनक और अभद्र भाषा का उपयोग किया गया था।

भोपाल।मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के पूर्व महापौर आलोक शर्मा की शिकायत पर 12 लोगों के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने का केस दर्ज किया गया है। पूर्व महापौर ने कुछ लोगों द्वारा सोशल मीडिया एक एक जैन संत के प्रति आपत्तिजनक टिप्पणी की थी जिसकी शिकायत आलोक शर्मा ने पुलिस में की थी। 

इसे भी पढ़ें: किसान ने पत्नी और दो बच्चों सहित खाना जहर, हालत गंभीर अस्पताल में भर्ती

सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर धार्मिक भावनाएं भड़काने की कोशिश किए जाने का मामला सामने आया है। कुछ लोगों ने जैन समाज के एक महाराज के खिलाफ आपत्तिजनक शब्दों का उपयोग किया था। इस बारे में पूर्व महापौर आलोक शर्मा समेत बड़ी संख्या में लोगों की शिकायत पर रविवार देर रात कोतवाली पुलिस ने नामजद 12 से ज्यादा लोगों पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का मामला दर्ज किया है। 

इसे भी पढ़ें: महिला थाना प्रभारी के साथ व्यापारी ने की बत्तमीजी, दो पुलिसकर्मियों को आई चोटें

पूर्व महापौर आलोक शर्मा ने बताया कि वह और उनके परिचित व्यापारी कुछ सोशल मीडिया ग्रुप से जुड़े हैं। इसी ग्रुप में रविवार को एक मैसेज सर्कुलेट हुआ। इसमें जैन समाज के संत को लेकर आपत्तिजनक और अभद्र भाषा का उपयोग किया गया था। उन्होंने इस संबंध में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के लिए कोतवाली पुलिस से शिकायत की थी। मामले की जांच कर रहे एएसआई इंदर सिंह ने बताया कि जांच के बाद इस मामले में योगेश चंद्र जैन, प्रद्युम्न जैन, दिनेश जैन और एच मोहिवाल समेत 12 से अधिक लोगों पर धार्मिक भावनाएं भड़काने की धाराओं में एफआईआर दर्ज की गई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।