दक्षिण अफ्रीका से आने वाले यात्रियों को मुंबई पहुंचने पर पृथकवास में रहना होगा: महापौर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2021   17:18
दक्षिण अफ्रीका से आने वाले यात्रियों को मुंबई पहुंचने पर पृथकवास में रहना होगा: महापौर

दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 के एक नए संक्रामक स्वरूप के सामने आने के मद्देनजर मुंबई की महापौर किशोरी पेडनेकर ने शनिवार को कहा कि दक्षिण अफ्रीका से शहर में आने वाले सभी यात्रियों को पृथकवास में रहना होगा।

मुंबई। दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 के एक नए संक्रामक स्वरूप के सामने आने के मद्देनजर मुंबई की महापौर किशोरी पेडनेकर ने शनिवार को कहा कि दक्षिण अफ्रीका से शहर में आने वाले सभी यात्रियों को पृथकवास में रहना होगा। उन्होंने बताया कि इन यात्रियों के नमूने जीनोम अनुक्रमण के लिए भेजे जाएंगे। पीटीआई-से बातचीत में पेडनेकर ने कहा कि यह निर्णय दक्षिण अफ्रीका में कोविड-19 के नए स्वरूप ओमिक्रोन के सामने आने के बाद लिया गया क्योंकि इस स्वरूप के अधिक संक्रामक होने की आशंकाएं हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ विदेशों में कोरोना वायरस का खतरा बढ़ गया है इसलिए बाहर से आने वाले लोगों को जीनोम जांच से गुजरना होगा।’’

इसे भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश में आई बाढ़ में डूबे 16 लोग अब भी लापता, मुख्यमंत्री रेड्डी का बयान

महापौर ने कहा कि शाम में महानगरपालिका की बैठक होने वाली है। पेडनेकर अभी दिल्ली में हैं और उन्होंने कहा कि कोविड-19 की पिछली लहरपर नियंत्रण में आई कठिनाई के अनुभवों के आधार पर यह निर्णय लिया गया है।

इसे भी पढ़ें: इन वजहों से होता है फैटी लिवर, नहीं संभले तो होगी बड़ी दिक्कत

उन्होंने कहा कि वायरस के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से आनेवाले यात्रियों के लिए भी इस तरह के प्रतिबंध लागू हो सकते हैं। इस सप्ताह कोविड-19 के नए स्वरूपB.1.1.529 का पता दक्षिण अफ्रीका में चला और शुक्रवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे ‘ चिंता वाला स्वरूप’ करार दिया। इसे ओमिक्रोन नाम दिया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...