पवार ने पाला बदलने वाले नेताओं से पूछा, जब आप मंत्री थे तब आपने क्या किया?

pawar-asked-the-leaders-who-changed-what-did-you-do-when-you-were-a-minister
उन्होंने कहा कि कारोबारियों का हजारों करोड़ों रुपये का कर्ज माफ किया जा रहा है लेकिन देश के किसानों का नहीं। उन्होंने कहा, ‘‘फैक्टरी बंद कर दी गई, किसान संकट में हैं और बेरोजगारी बढ़ रही है।

बीड। राकांपा प्रमुख शरद पवार ने अपने निर्वाचन क्षेत्रों का विकास सुनिश्चित करने की बात कहते हुए पार्टी छोड़ने वाले नेताओं से बुधवार को पूछा कि जब वे सत्ता में थे तो 15 वर्षों तक क्या कर रहे थे। महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के मद्देनजर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं ने पार्टी से नाता तोड़कर सत्तारूढ़ भाजपा और शिवसेना का दामन थाम लिया। अगले महीने के चुनावों से पहले राज्यव्यापी दौरा कर रहे पवार बुधवार को बीड में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। कांग्रेस और राकांपा साल 1999 से 2014 तक 15 वर्षों तक महाराष्ट्र में सत्ता में थीं। 

पवार ने कहा, ‘‘इस क्षेत्र से पार्टी छोड़ने वाले नेताओं ने कहा कि उन्होंने विकास के लिए पार्टी छोड़ी। इससे सवाल खड़ा होता है जब आप विधायक या राज्य में मंत्री बने थे तब आप क्या कर रहे थे?’’ पूर्व मंत्री गणेश नाइक, सचिन अहीर और मधुकर पिचाड़ हाल ही में राकांपा छोड़ने वाले नेताओं में शामिल हैं। सतारा से राकांपा सांसद उदयनराजे भोसले रविवार को भाजपा में शामिल हुए। पवार ने यह भी आरोप लगाया कि राज्य में करीब 16,000 किसानों ने आत्महत्या की। 

इसे भी पढ़ें: शाह पर बरसे शरद पवार, बोले- जेल जाने वालों को मुझसे सवाल नहीं करना चाहिए

उन्होंने कहा कि कारोबारियों का हजारों करोड़ों रुपये का कर्ज माफ किया जा रहा है लेकिन देश के किसानों का नहीं। उन्होंने कहा, ‘‘फैक्टरी बंद कर दी गई, किसान संकट में हैं और बेरोजगारी बढ़ रही है। फिर भी सत्तारूढ़ पार्टी के नेता वोट मांगने आ रहे हैं। उनकी हर योजना विफल हो गई। हमें इन लोगों को फिर से सत्ता में न लाने का संकल्प लेना चाहिए।’’

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़