केदारनाथ धाम में सांस लेने में दिक्कत के बाद तीर्थयात्री की मौत

pilgrim-dies-after-breathing-trouble-in-kedarnath-shrine
विनोद व्यास के परिजनों ने आरोप लगाया है कि जिलाधिकारी द्वारा उसे तत्काल हायर सेंटर भेजे जाने का आदेश दिये जाने के बावजूद हेलीकाप्टर कंपनी ने उसका पालन करने में देरी की।

देहरादून। मुम्बई के एक श्रद्धालु की केदारनाथ धाम में सांस लेने में दिक्कत की शिकायत के बाद मृत्यु हो गयी जिसके लिए उसके परिजनों ने हेलीकॉप्टर सेवा प्रदाता कंपनी को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि उसे अस्पताल पहुंचाने में हुई देरी की वजह से उसकी जान चली गयी। रूद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने आज बताया कि मंगलवार हुई इस घटना की जांच के आदेश दे दिये गये हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि मुम्बई पश्चिम में गोरेगांव में रहने वाले 52 वर्षीय विनोद व्यास ने केदारनाथ मंदिर में सांस लेने में दिक्कत होने की शिकायत की। उन्हें तत्काल निकटवर्ती स्वास्थ्य शिविर ले जाया गया जहां से उन्हें गुप्तकाशी में हायर सेंटर के लिये रेफर कर दिया गया लेकिन अस्पताल तक पहुंचने से पहले ही उनकी मृत्यु हो गयी।

इसे भी पढ़ें: पीएम मोदी की केदारनाथ और बदरीनाथ यात्रा की आलोचना दुर्भाग्यपूर्ण : त्रिवेंद्र

विनोद व्यास के परिजनों ने आरोप लगाया है कि जिलाधिकारी द्वारा उसे तत्काल हायर सेंटर भेजे जाने का आदेश दिये जाने के बावजूद हेलीकाप्टर कंपनी ने उसका पालन करने में देरी की। उन्होंने कंपनी पर आरोप लगाया कि मरीज स्ट्रेचर पर आधा घंटा लेटा रहा और उनके बार- बार अनुरोध को भी अनसुना कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें: TMC ने EC से कहा, प्रचार थमने के बाद भी मोदी की केदारनाथ यात्रा को मिल रहा कवरेज

परिजनों ने कहा कि बाद में पुलिस के हस्तक्षेप के बाद ही मरीज को गुप्तकाशी ले जाया गया लेकिन अस्पताल पहुंचने तक काफी देर हो चुकी थी। घिल्डियाल ने कहा कि घटना की जांच के आदेश दे दिये गये हैं जिससे व्यक्ति की मौत के लिए जिम्मेदार परिस्थितियों का पता चल सके।

इसे भी देखें

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़