प्रगति मैदान के आहार एग्जिबिशन में हंगामा, पीयूष गोयल को संक्षेप में खत्म करना पड़ा संबोधन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 26, 2022   21:17
प्रगति मैदान के आहार एग्जिबिशन में हंगामा, पीयूष गोयल को संक्षेप में खत्म करना पड़ा संबोधन

वाणिज्य और उद्योग मंत्री मेले के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि थे। उनके पास खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों और कपड़ा मंत्रालयों का प्रभार भी है। इस मेले का मकसद खाद्य और आतिथ्य उद्योग के ब्रांडों को अपने उत्पादों का प्रदर्शन करने के लिए मंच देना है।

राष्ट्रीय राजधानी के प्रगति मैदान में आयोजित आहार खाद्य एवं आतिथ्य मेले के उद्घाटन समारोह में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को अपना भाषण बीच में ही रोकना पड़ा। गोयल के भाषण के दौरान मंगलवार को मेले के प्रतिभागियों ने खराब सुविधाओं के खिलाफ प्रदर्शन किया। वाणिज्य और उद्योग मंत्री मेले के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि थे। उनके पास खाद्य एवं उपभोक्ता मामलों और कपड़ा मंत्रालयों का प्रभार भी है। इस मेले का मकसद खाद्य और आतिथ्य उद्योग के ब्रांडों को अपने उत्पादों का प्रदर्शन करने के लिए मंच देना है। 

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल के शिक्षा मॉडल को हिमाचल के शिक्षा मंत्री ने बताया खोखला, खाली पड़े पदों का भी किया जिक्र

गोयल जैसे ही अपना भाषण देने के लिए उठे, कुछ प्रतिभागियों ने प्रगति मैदान में कथित रूप से खराब सुविधाओं के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। उन्होंने वातानुकूलन (एसी) की अपर्याप्त व्यवस्था, अनियमित बिजली आपूर्ति, परिसर में गंदगी और लिफ्ट तथा एस्केलेटर के काम न करने की शिकायत की। इस पर गोयल ने कहा कि वह उन्हें हो रही परेशानियों का समाधान खोजने के लिए निर्देश जारी कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली में कोरोना के मामलों में उछाल, पिछले 24 घंटे में मिले 1200 से ज्यादा पॉजिटिव

आयोजन स्थल का प्रबंधन भारत व्यापार संवर्धन संगठन (आईटीपीओ) द्वारा किया जाता है। इस बीच, आयोजकों ने प्रतिभागियों को शांत करने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने अपना विरोध जारी रखा। गोयल ने अपना भाषण संक्षेप में खत्म कर दिया और उन्होंने आंदोलनकारी प्रतिभागियों की बात सुनी और उन्हें शांत करने का प्रयास किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।