कोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं: प्रधानमंत्री मोदी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 31, 2020   11:50
कोरोना वायरस से गरीब एवं श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं: प्रधानमंत्री मोदी

कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के लंबा चलने का संकेत देने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थव्यवस्था के बड़े हिस्से के खुल जाने के कारण देशवासियों से रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए पहले से अधिक सतर्क रहने की अपील की।

नयी दिल्ली। कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के लंबा चलने का संकेत देने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थव्यवस्था के बड़े हिस्से के खुल जाने के कारण देशवासियों से रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण से बचने के लिए पहले से अधिक सतर्क रहने की अपील की। उन्होंने साथ ही कहा कि इस संक्रमण से गरीब और श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। प्रधानमंत्री ने अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में कहा, ‘‘समाज का कोई भी वर्ग ऐसा नहीं है, जो कोविड-19 संक्रमण से प्रभावित नहीं हुआ है, लेकिन गरीब एवं श्रमिक सबसे ज्यादा बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।’’

इसे भी पढ़ें: लद्दाख गतिरोध के समाधान के लिए सैन्यऔर कूटनीतिक स्तर पर वार्ता जारी : राजनाथ सिंह

उन्होंने देशवासियों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा अब खुल गया है, इसलिए अब और अधिक सतर्क रहना महत्वपूर्ण हो गया है।’’ उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की लड़ाई देश के लोगों के नेतृत्व में लड़ी जा रही है और इस लड़ाई में देश की ‘सेवा शक्ति’ नजर आ रही है मोदी ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में हमारे नागरिकों की कुछ नया करने की भावना जोश भर रही है।’’

इसे भी पढ़ें: मोदी नाम नहीं, मंत्र है जो ऊर्जा भरता है : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान

उन्होंने कहा, ‘‘आगे की डगर लंबी है, हम ऐसी वैश्विक महामारी से लड़ रहे हैं, जिसके बारे में पहले से बहुत कम जानकारी है।’’ मोदी ने चक्रवात अम्फान के कारण बुरी तरह प्रभावित हुए ओडिशा एवं पश्चिम बंगाल की मदद के लिए उनके साथ खड़े रहने की बात भी की। उन्होंने साथ ही कहा कि टिड्डियों के दलों से प्रभावित हुए लोगों को मदद मुहैया कराई जाएगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।