रक्षा मंत्री के साथ आज शाम बैठक करेंगे पीएम मोदी, इन मुद्दों पर होगी बात

रक्षा मंत्री के साथ आज शाम बैठक करेंगे पीएम मोदी, इन मुद्दों पर होगी बात

जम्मू में हुए ड्रोन आतंकी हमले के बीच भारत हर मोर्चे पर अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। माना जा रहा है कि पीएम के साथ रक्षा मंत्री की बैठक में लेह-लद्दाख को लेकर भी चर्चा हो सकती है।

देश पर हुए पहले ड्रोन आतंकी हमले के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ बैठक करेंगे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह लेह-लद्दाख का दौरा खत्म कर आज दिल्ली लौट रहे हैं। दिल्ली लौटने के साथ ही उनकी यह बैठक पीएम मोदी के साथ होगी। जानकारी के मुताबिक यह बैठक शाम 4:00 बजे होगी। इस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल होंगे।

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के DGP दिलबाग सिंह का बयान, ड्रोन का IED बम के तौर पर इस्तेमाल, भीड़ में धमाके की थी साजिश

आपको बता दें कि जम्मू में हुए ड्रोन आतंकी हमले के बीच भारत हर मोर्चे पर अपनी सक्रियता बढ़ा दी है। माना जा रहा है कि पीएम के साथ रक्षा मंत्री की बैठक में लेह-लद्दाख को लेकर भी चर्चा हो सकती है। रक्षा मंत्री हाल में ही लद्दाख दौरे पर थे जहां उन्होंने जवानों से मुलाकात की है। इस बैठक को सीमा सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए महत्वपूर्ण बताया जा रहा है। साथ ही साथ गलवा घाटी में वर्तमान स्थिति पर भी चर्चा हो सकती है क्योंकि रक्षा मंत्री वहां का जायजा लेने के बाद दिल्ली वापस लौट रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: भारत की नई कश्मीर पॉलिसी से बौखलाया पाकिस्तान, राजनाथ ने बिना नाम लिए चीन-पाक को चेताया

अपने लद्दाख दौरे पर चीन को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बड़ा संदेश दिया है। साथ ही साथ उन्होंने पाकिस्तान का बिना नाम लिए उसे चेतावनी भी दी है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्वी लद्दाख से चीन को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि भारत ‘‘गलवान वीरों’’ के बलिदान को कभी नहीं भूलेगा और देश के सशस्त्र बल हर चुनौती का मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम हैं। लद्दाख दौरे के दूसरे दिन सिंह ने पाकिस्तान का बिना नाम लिए कहा कि पड़ोसी देशों के साथ बातचीत के जरिए मुद्दों का समाधान तलाशने की कोशिश की जानी चाहिए, लेकिन साथ ही आगाह किया कि अगर कोई हमें धमकाने की कोशिश करेगा तो भारत इसे बर्दाशत नहीं करेगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।