हिंदुत्व की राजनीति विश्व कल्याणकारी हिन्दू धर्म पर हमला : थरूर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 29, 2019   16:41
हिंदुत्व की राजनीति विश्व कल्याणकारी हिन्दू धर्म पर हमला : थरूर

थरूर ने किताब में लिखा, ‘‘हिन्दू धर्म अपने खुलेपन, दूसरे विचारों का सम्मान करने और अन्य विश्वासों को स्वीकार करने के लिए जाना जाता है। यह एक ऐसा धर्म है जो अन्य धर्मों के भय के बिना डटा रहा।

नयी दिल्ली। लेखक एवं नेता शशि थरूर ने दावा किया है कि हिन्दुत्व को राजनीतिक रूप से पेश करना कुछ और नहीं बल्कि हिन्दू धर्म पर प्रहार है। उन्होंने यह भी कहा कि सहस्राब्दियों से विश्व कल्याण की कामना करने वाले इस धर्म ने बाहरी आक्रमणों में अपनी प्रतिरोध क्षमता का प्रदर्शन किया है किंतु भीतर से होने वाले हमलों के कारण अब यह अपनी कमजोरी दिखा रहा है। नयी पुस्तक ‘ द हिन्दू वे- एन इंट्रोडक्शन टू हिन्दुइज्म’ में उन्होंने हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण दर्शनों जैसे अद्वैत वेदांत पर गहन चिंतन किया है और उन प्रारंभिक धारणाओं की ओर ध्यान दिलाया है जो धर्म का आधार हैं। यह पुस्तक उनकी पूर्व की किताब ‘ वाई आई एम ए हिन्दू’ की श्रृंखला की अगली कड़ी है।

इसे भी पढ़ें: थरूर ने शेयर की नेहरू की एक और तस्वीर, बोले- ये वाली अमेरिका में ही ली गई थी

थरूर ने किताब में लिखा, ‘‘ हिन्दू धर्म अपने खुलेपन, दूसरे विचारों का सम्मान करने और अन्य विश्वासों को स्वीकार करने के लिए जाना जाता है। यह एक ऐसा धर्म है जो अन्य धर्मों के भय के बिना डटा रहा। लेकिन यह वह हिन्दुत्व नहीं है जिसने बाबरी मस्जिद तोड़ी, न ही यह सांप्रदायिक राजनीतिक नेताओं द्वारा घृणा भरे बोलों का वमन है।’’ 

इसे भी पढ़ें: नेहरू और इंदिरा की लोकप्रियता दिखाने के चक्‍कर में बड़ी गलती कर बैठे शशि थरूर, फिर दी सफाई

अठारह पुस्तकें लिख चुके थरूर ने कहा कि हिन्दुत्व का ऐसा दृष्टिकोण पेश करने के लिए हिन्दुत्व राजनीति का विरोध किया जाना चाहिए। यह दृष्टिकोण ऐसी हर उस चीज का विरोध करता है जिसके पक्ष में सार्वभौम धर्म होता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।