नेहरू और इंदिरा की लोकप्रियता दिखाने के चक्‍कर में बड़ी गलती कर बैठे शशि थरूर, फिर दी सफाई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 24, 2019   15:20
नेहरू और इंदिरा की लोकप्रियता दिखाने के चक्‍कर में बड़ी गलती कर बैठे शशि थरूर, फिर दी सफाई

थरूर ने ह्यूस्टन में आयोजित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रवासी कार्यक्रम पर कटाक्ष करते हुए इस फोटो को पोस्ट करने के साथ लिखा, “अमेरिका में 1954 में नेहरू और इंडिया गांधी।

नयी दिल्ली। ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम पर कटाक्ष करने के चक्कर में कांग्रेस नेता शशि थरूर को खुद ट्विटर पर उस समय परेशानी का सामना करना पड़ा, जब उन्होंने जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी की एक फोटो पोस्ट की और दावा किया कि ये फोटो अमेरिका की है। हालांकि, बाद में उन्होंने साफ किया कि शायद ये फोटो सोवियत रूस की है। थरूर ने भारत के पहले प्रधानमंत्री और उनकी बेटी की एक फोटो पोस्ट की, जिसमें वह एक खुली कार में बैठे हैं और उनके चारो तरफ भारी भीड़ जमा है। इस पोस्ट पर थरूर को इसलिए भी ट्रोल किया गया क्योंकि उन्होंने इंदिरा गांधी की जगह “इंडिया गांधी” लिख दिया था। 

थरूर ने ह्यूस्टन में आयोजित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रवासी कार्यक्रम पर कटाक्ष करते हुए इस फोटो को पोस्ट करने के साथ लिखा, “अमेरिका में 1954 में नेहरू और इंडिया गांधी। अमेरिकी लोगों की अपने आप उमड़ी अत्यधिक उत्साही भीड़ देखिए, बिना किसी विशेष जनसंपर्क अभियान, एनआरआई भीड़ प्रबंधन या मीडिया प्रचार के।” इस पोस्ट में थरूर से चूक हो गई। सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इस ओर उनका ध्यान दिलाया। वास्तव में ये फोटो नेहरू और इंदिरा गांधी की सोवियत रूस यात्रा की थी। 

इसे भी पढ़ें: मंहगाई, बेरोजगारी, अपराध चरम पर... तो फिर सब कुछ अच्छा कैसे: कांग्रेस

इसके थोड़ी देर बाद थरूर ने स्पष्टीकरण दिया, “मुझे बताया गया कि ये तस्वीर (मुझे भेजी गई) शायद सोवियत रूस यात्रा की है, अमेरिका की नहीं । अगर ऐसा है तो भी, इससे संदेश पर कोई फर्क नहीं पड़ता: सच्चाई ये है कि पूर्व प्रधानमंत्रियों ने भी विदेश में लोकप्रियता का आनंद लिया है। जब नरेंद्र मोदी का सम्मान हुआ, तो ये भारत के प्रधानमंत्री का सम्मान था।”





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।