कोरोना की दूसरी डोज लेने में लापरवाही दिखा रही है जनता

Public is showing negligence in taking second dose of Corona
अजय कुमार । Aug 26, 2021 5:52PM
जनता कोरोना की दूसरी डोज लेने में लापरवाही दिखा रहे है। एक मोटे अनुमान के अनुसार करीब. करीब सभी जिलों में ऐसे लोगो की संख्या 15 से 25 हजार के बीच है जिन्होंनें दूसरी डोज नहीं ली है या दूसरी डोज लेना भूल गए हैं। बता दें कि,जिले में लगभग 5 लाख के करीब लोगों का टीकाकरण हो चुका है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार कोरोना महामारी से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर टीकाकरण अभियान छेड़े हुए है, वहीं जनता जागरूक होने का नाम ही नहीं ले रही है। अभी भी प्रदेश की बड़ी आबादी टीकाकरण को गंभीरता से नहीं ले रही है। प्रदेश में बड़ी तादात ऐसे लोगों की है जो टीकाकरण से लिए सेंटर पर पहुंच ही नहीं रहे हैं जबकि इससे भी अधिक चौंकाने वाली बात यह है कि ऐसे लोगों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है जिन्होंने कोविड वैक्सीन का पहला डोज तो लगवा लिया है लेकिन दूसरे डोज के लिए सेंटर पर आ ही नहीं रहे हैं, जबकि ऐसे लोगों का दूसरे डोज का मैसेज उनके रजिस्टर्ड मोबाइल पर भेजा जा चुका है। प्रत्येक जिले से ऐसी खबरे सरकार के पास आ रही हैंएजहां लोग दूसरा डोज लगवाने के लिए नहीं पहुंचे हैं। सभी जिलों में ऐसे लोगों की संख्या हजारो में हैं। एक मोटे अनुमान के अनुसार करीब. करीब सभी जिलों में ऐसे लोगो की संख्या 15 से 25 हजार के बीच है जिन्होंनें दूसरी डोज नहीं ली है या दूसरी डोज लेना भूल गए हैं।जबकि कोरोना को मात देने के लिए सरकार मेगा कैम्प का आयोजन कर रही है।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति के दौरे के बाद उत्तर प्रदेश में होगा कैबिनेट का विस्तार, इन बड़े नेताओं को बनाया जा सकता है मंत्री

लखनऊ में ही तकरीबन 50 हजार लोगों ने निर्धारित समय बीत जाने के बाद भी दसूरी डोज नहीं ली है। वहीं कई जिलों में यह संख्या 25 हजार तक  हैंए जो अपने निर्धारित समय पर वैक्सीन की दूसरी डोज लेना भूल गए। जबकि कोरोना को मात देने के लिए वैक्सीन के दोनों डोज जरुरी है। तमाम जिलों के प्रतिरक्षण अधिकारी बता रहे हैं कि कोरोना की दूसरी डोज को लेकर लोग बहुत लापरवाह दिख रहे हैं। यह स्थिति तब है जबकि योगी सरकार ने लेटर जारी कर दूसरी डोज लगवाने के लिए आदेशित किया था ताकि लोगों को तय समय पर दूसरी डोज मिल सके। कई जिलों में तो  सिर्फ दूसरी डोज के लिए शनिवार का दिन निर्धारित किया गया है। कई वरिष्ठ चिकित्सकों का कहना है कि कोरोना से बचने के लिए टीका ही एक सहारा है। जिससे लोगों की जान बचाई जा सकती है। टीका लगने के बाद यदि कोई संक्रमित भी होता है तो जान का संकट नहीं रहता। टीके के कारण उसकी कोरोना से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है इसलिए लोग अधिक से अधिक कोरोना का टीका लगवाएं। इसके लिए टीके की दोनों डोज लेनी जरूरी है। जिले में लगभग 5 लाख के करीब लोगों का टीकाकरण हो चुका है। दूसरी डोज लेने वालों का प्रतिशत कम है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़