सुरक्षाबलों ने पुलवामा में आतंकी हमले को किया नाकाम, जानिए क्या कुछ हुआ

सुरक्षाबलों ने पुलवामा में आतंकी हमले को किया नाकाम, जानिए क्या कुछ हुआ

कश्मीर क्षेत्र की पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा , ‘‘ समय पर मिली जानकारी तथा पुलवामा पुलिस, सीआरपीएफ और सेना की कोशिश की वजह से एक कार से आईईडी विस्फोट की साजिश को नाकाम कर दिया गया।’’

नयी दिल्ली। जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षाबलों ने एक बड़े आतंकी हमले को नाकाम कर दिया है। बता दें कि पुलवामा के राजपोरा के आयनगुंड में सेना को विस्फोटक से भरी हुई कार मिली। इस कार में आईईडी का भी इस्तेमाल किया गया था। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एक सफेद रंग की निजी कार को सुरक्षाबलों ने एक जांच चौकी पर रोका लेकिन चालक तेजी से निकल गया। जिस पर सुरक्षाबलों ने गोलियां भी चलाई जिसके बाद कार कुछ दूरी पर खाली पड़ी हुई मिली।

मिली जानकारी के मुताबिक विस्फोटकों से भरी हुई कार को कहीं और ले जाना संभव नहीं था ऐसे में सुरक्षाबलों ने उस कार को वहीं पर उड़ा दिया। गाड़ी को उड़ाने से पहले सुरक्षाबलों ने आस-पास के इलाके को खाली करा दिया था ताकि कोई अप्रिय घटना न हो।  

इसे भी पढ़ें: पुलवामा में आतंकी हमला, एक पुलिसकर्मी शहीद, एक अन्य घायल 

बताया जा रहा है कि सुरक्षाबलों को गाड़ी इसलिए उड़ानी पड़ी क्योंकि उसमें विस्फोटकों की मात्रा इतनी ज्यादा थी उसे कहीं और ले जाने पर कुछ भी हो सकता है। ऐसे में गाड़ी को उड़ाना ही सही था।

कश्मीर क्षेत्र की पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा , ‘‘ समय पर मिली जानकारी तथा पुलवामा पुलिस, सीआरपीएफ और सेना की कोशिश की वजह से एक कार से आईईडी विस्फोट की साजिश को नाकाम कर दिया गया।’’   

इसे भी पढ़ें: J&K के पुलवामा में आतंकी हमले में एक पुलिसकर्मी शहीद, दूसरा जख्मी 

पुलवामा 2019 जैसा हो सकता था हमला

कहा जा रहा है कि इस कार का इस्तेमाल 2019 में हुए पुलवामा हमले की तरह किया जा सकता था मगर सुरक्षाबलों की सतर्कता की बदौलत इसे निष्क्रिय कर दिया गया। गौरतलब है कि 14 फरवरी 2019 को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाकर कार विस्फोट किया था। जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।