जेपी नड्डा ने राहुल गांधी पर कसा तंज, कहा- कोविड-19 जैसे विषयों के बारे में नहीं है बुनियादी समझ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 30, 2020   14:37
जेपी नड्डा ने राहुल गांधी पर कसा तंज, कहा- कोविड-19 जैसे विषयों के बारे में नहीं है बुनियादी समझ

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने कहा कि राहुल गांधी को इन सभी चीजों (कोविड-19) की समझ कम है, वह इन सब चीजों को समझा नहीं पाते और इसलिये भ्रमित करने वाली बातें कहते रहते हैं।

नयी दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने राहुल गांधी पर तंज कसते हुए शनिवार को कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष को कोविड-19 और इससे जुड़े संकट के बारे में बुनियादी समझ नहीं है और न ही उन्होंने इसका समुचित अध्ययन किया है जिसके कारण वह भ्रमित करने वाली बातें कहते रहते हैं। नड्डा ने मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की पहली वर्षगांठ पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये संवाददाताओं से यह बात कही। उनसे कोरोना वायरस से निपटने के तौर-तरीकों पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी द्वारा सवाल उठाये जाने के बारे में पूछा गया था। भाजपा अध्यक्ष ने कहा, ‘‘राहुल गांधी को इन सभी चीजों (कोविड-19) की समझ कम है, वह इन सब चीजों को समझा नहीं पाते और इसलिये भ्रमित करने वाली बातें कहते रहते हैं।’’ 

इसे भी पढ़ें: स्मृति ईरानी ने साधा निशाना, कहा- महामारी के दौर में देश की चुनौतियों से फायदा उठाने की कोशिश में कांग्रेस 

राहुल पर निशाना साधते हुए नड्डा ने कहा कि कभी वह (राहुल गांधी) कहते हैं कि लॉकडाउन जल्दी क्यों नहीं लगाया, कभी कहते हैं कि लॉकडाउन कोरोना से लड़ने का उपाय नहीं है। वह राजनीति के लिये बार-बार बयान बदलते हैं। नड्डा ने कहा कि कोविड-19 और इससे जुड़े संकट के बारे में उन्हें बुनियादी समझ नहीं है और उन्होंने समचित अध्ययन नहीं किया है। इन विषयों के बारे में उनकी जानकारी भी सीमित है। इसलिये समझदारी नहीं बन पाती है। ऐसे में उनकी बातें राजनीति से प्रेरित होती हैं। उन्होंने कहा कि चूंकि वह (राहुल) राजनीतिक दल के नेता हैं तो जो बोलना चाहते हैं वो बोल सकते हैं। कांग्रेस पार्टी की राजनीति करने की आदत है।

इसे भी देखें : Article 370 व तीन तलाक खत्म किया, राममंदिर और CAA का लक्ष्य पूरा किया 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।