राहुल को प्रह्लाद जोशी ने बताया नकली गांधी, बोले- वो महात्मा गांधी के नहीं हैं वंशज

Pralhad Joshi
ANI Image
अनुराग गुप्ता । Aug 05, 2022 11:37AM
केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि यह महात्मा गांधी के वशंज नहीं है, यह नकली गांधी हैं। यह नकली गांधी और नकली विचारधारा है इसलिए ऐसे बोलते हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग अपनी खुद की पार्टी में लोकतंत्र के बारे में यकीन नहीं रखते, वे देश में लोकतंत्र के बारे में बात कर रहे हैं।

नयी दिल्ली। केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने शुक्रवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को नकली गांधी बताया। दरअसल, राहुल गांधी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को महंगाई, बेरोजगारी जैसे मुद्दे पर घेरते हुए आरोप लगाया कि देश में लोकतंत्र नहीं है।

इसे भी पढ़ें: ED की जांच में फंसे रहे मल्लिकार्जुन खड़गे, घर में रात्रिभोज का हुआ आयोजन, मेहमानों को करना पड़ा एक घंटे इंतजार 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, केंद्रीय संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि यह महात्मा गांधी के वशंज नहीं है, यह नकली गांधी हैं। यह नकली गांधी और नकली विचारधारा है इसलिए ऐसे बोलते हैं। उन्होंने कहा कि जो लोग अपनी खुद की पार्टी में लोकतंत्र के बारे में यकीन नहीं रखते और जिन्होंने देश में आपातकाल लगाया वे देश में लोकतंत्र के बारे में बात कर रहे हैं, यह हास्यास्पद है। जो भी हो रहा है वह भारत के क़ानून के तहत हो रहा है और उनको इसमें सहयोग करना चाहिए।

प्रह्लाद जोशी ने कहा कि जहां तक मल्लिकार्जुन खड़गे को ईडी द्वारा बुलाए जाने की बात है तो वह उस कंपनी के सीईओ हैं।अगर उनको बुलाया जा रहा है तो उन्हें सहयोग करना चाहिए। राहुल गांधी और सोनिया गांधी को बुलाया गया था तब संसद का सत्र नहीं चल रहा था तब भी उन्होंने सहयोग नहीं किया था।

इसे भी पढ़ें: भाजपा का कांग्रेस पर पलटवार, कहा- संसद में चर्चा के दौरान आते नहीं हैं राहुल, क्या कांग्रेस में है लोकतंत्र ? 

लोकतंत्र की हो रही हत्या

राहुल गांधी ने कहा कि लोकतंत्र की हत्या हो रही है। इस देश ने 70 साल में बनाया उसको 8 साल में खत्म कर दिया गया। आज हिंदुस्तान में लोकतंत्र नहीं है बल्कि 4 लोगों की तानाशाही है। उन्होंने कहा कि हम महंगाई, बेरोज़गारी और समाज को जो बांटा जा रहा है उसका मुद्दा संसद में उठाना चाहते हैं लेकिन हमें बोलने नहीं दिया जाता।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़