राहुल गांधी का किसानों से वादा, सत्ता में आते ही दस दिनों में कर्ज माफ करेगी कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2018   15:10
राहुल गांधी का किसानों से वादा, सत्ता में आते ही दस दिनों में कर्ज माफ करेगी कांग्रेस

गांधी ने कहा कि सच्चाई से भी बहुत काम किया जा सकता है और ऐसा केंद्र की पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने किया भी जिसने किसानों का कर्ज माफ किया और सच्चाई से मनरेगा जैसी योजनाएं बनाईं।

जयपुर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि राज्य में पार्टी की सरकार बनने पर दस दिन के भीतर किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वह खोखले वादे करने में विश्वास नहीं करते बल्कि मानते हैं कि सच्चाई से भी बहुत काम किया जा सकता है। राजस्थान के पोकरण में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा, ‘‘राज्य में चुनाव होने के बाद कांग्रेस पार्टी की सरकार बनने पर दस दिन में हमारी पार्टी किसानों का कर्जा माफ कर देगी। और दुनिया की कोई भी शक्ति इस बात को नहीं बदल सकती कि राजस्थान के किसान का कर्जा दस दिन में माफ होगा।'

गांधी ने कहा कि कांग्रेस इससे पहले पंजाब व कर्नाटक में भी ऐसा कर चुकी है और इसकी पुष्टि जनता वहां के किसी भी किसान से कर सकती है। राहुल ने कहा, ‘‘मैं आपसे यहां झूठे वादे करने नहीं आया हूं। आप मेरी बात मत मानिए, यही बात मैंने पंजाब में की थी कि यही बात मैंने कर्नाटक में की थी। आप वहां फोन लगाकर पूछ लीलिए। सच झूठ का जवाब ले लीजिए।’’ उन्हों कहा कि वह 15 लाख रुपये देने या हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात नहीं करेंगे लेकिन 'जो आप मंच से सुन लेंगे या जो कुछ वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत या प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के मुंह से सुन लेंगे वह हम कर के दिखा देंगे।' गांधी ने कहा, ‘‘हमारा मुख्यमंत्री दिन के 18 घंटे युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए काम करेगा।'’

यह भी पढ़ें: हमने वादे पूरे किए तो बकवास करने वाली कांग्रेस खिसिया गई: CM शिवराज

उन्होंने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार ने 15 लोगों के साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये माफ किए हैं लेकिन हम करोड़ों युवाओं को लाखों रुपये का बैंक कर्ज दिलाएंगे। राहुल गांधी ने दावा किया वह किसी तरह के खोखले वादे नहीं करेंगे बल्कि जो कहेंगे उसे पूरा करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘आपके और मेरे बीच सिर्फ सच्चाई का रिश्ता होना चाहिए। मैं जानता हूं कि अगर आप मुझ पर भरोसा करते हैं तो मेरे शब्दों का कुछ मतलब होना चाहिए। शब्दों का वजन होना चाहिए। इसीलिए मैं आपसे झूठे वादे नहीं करूंगा।’’ 

UPA सरकार की योजनाएं गिनवाई

गांधी ने कहा कि सच्चाई से भी बहुत काम किया जा सकता है और ऐसा केंद्र की पूर्ववर्ती संप्रग सरकार ने किया भी जिसने किसानों का कर्ज माफ किया और सच्चाई से मनरेगा जैसी योजनाएं बनाईं। इसके साथ ही राहुल ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को 'शेर व बब्बर शेर' बताते हुए चुनाव में संयम बरतने की नसीहत दी। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा, ‘‘एक बात याद रखिए कि आप कांग्रेस पार्टी के सिपाही हो, न कि भाजपा या आरएसएस के। इसलिए आप प्यार से लड़ेंगे, आप तमीज से लड़ेंगे चाहे... प्रधानमंत्री की बात हो चाहे मुख्यमंत्री की बात हो आप उनके बारे में तमीज से बोलेंगे और गलत शब्द का इस्तेमाल नहीं करेंगे। गाली देना गलत शब्द बोलना उनका काम है हमारा नहीं।’’

यह भी पढ़ें: न्यायाधीशों को महाभियोग के नाम पर डराकर राम मंदिर की सुनवाई रुकवाती है कांग्रेस: मोदी

पोकरण की यह सभा प्रत्याशियों की घोषणा के बाद राहुल की पहली रैली थी। रैली में बड़ी संख्या में लोग उमड़े और इसे पायलट व पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत ने भी संबोधित किया। प्रधानमंत्री मोदी की कालेधन के खिलाफ लड़ाई पर तंज कसते हुए गांधी ने कहा, ‘‘आपने जनता की जेब से हजारों करोड़ रूपये निकाले और सीधे मेहुल चोकसी, नीरव मोदी, ललित मोदी की जेब में डाल दिए... यह है नरेन्द्र मोदी की कालेधन के खिलाफ लड़ाई।’’ उन्होंने कहा कि ये लोग स्विस बैंक खातों से पैसा वापस लाने की बात कर रहे थे लेकिन पता लगा कि छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के बेटे का नाम ही पनामा पेपर्स में निकल आया। उन्होंने कहा ‘‘देश का चौकीदार बनने का वादा करने वाले अनिल अंबानी के चौकीदार बन गए।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।