• राज्यवर्धन सिंह राठौर ने राहुल की टिप्पणी को गैर जिम्मेदाराना बताया, बोले- अपना फोन जांच के लिए दें

भाजपा नेता ने कहा कि अगर राहुल गांधी को ये लगता है कि उनका फोन टैप किया जा रहा है तो वो अपना फोन जांच के लिए दें। अगर जांच में ये पाया जाता है तो आईपीसी (IPC) के हिसाब से कार्रवाई होगी।

नयी दिल्ली। पेगासस जासूसी विवाद को लेकर सत्तारूढ़ पार्टी और विपक्षी दल आमने-सामने नजर आ रहे हैं। इजराइल के जासूसी स्पाईवेयर के माध्यम से जिन विपक्षी नेताओं की जासूसी होने की कथित संभावना जताई गई उनमें राहुल गांधी का भी नाम शामिल था। इस संबंध में अब भाजपा का बड़ा बयान सामने आया है। दरअसल, भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने राहुल गांधी को अपना फोन टेस्ट कराने की नसीहत दी है। 

इसे भी पढ़ें: सोनिया गांधी बनी रहेंगी कांग्रेस की अध्यक्ष, आजाद और पायलट को भी दी जा सकती है अहम जिम्मेदारी 

भाजपा नेता ने कहा कि अगर राहुल गांधी को ये लगता है कि उनका फोन टैप किया जा रहा है तो वो अपना फोन जांच के लिए दें। अगर जांच में ये पाया जाता है तो आईपीसी (IPC) के हिसाब से कार्रवाई होगी। समाचार एजेंसी एएनआई ने यह जानकारी दी। हालांकि उन्होंने राहुल गांधी की टिप्पणी को गैरजिम्मेदाराना बताया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की रणनीति रही है कि संसद में काम न हो। वह राष्ट्र की प्रगति में विश्वास नहीं करते हैं।

आपको बता दें कि राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले की उच्चतम न्यायालय की निगरानी में न्यायिक जांच कराने की मांग की है। इससे पहले उन्होंने पेगासस हैशटेग का इस्तेमाल करते हुए मोदी सरकार पर तंज कसा था। उन्होंने कहा था कि हम जानते हैं कि वह क्या पढ़ रहे हैं, जो भी आपके फोन में है। 

इसे भी पढ़ें: पेगासस केस में राहुल गांधी ने की न्यायिक जांच की मांग, कहा- गृह मंत्री इस्तीफा दें 

गौरतलब है कि विदेशी मीडिया ने रविवार को दावा किया कि केवल सरकारी एजेंसियों को ही बेचे जाने वाले इजराइल के जासूसी साफ्टवेयर के जरिए भारत के दो केन्द्रीय मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, विपक्ष के तीन नेताओं और एक न्यायाधीश सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और अधिकार कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर हो सकता है कि हैक किए गए हों।