उत्तर प्रदेश में हिंसा की घटनाओं को लेकर राजनाथ सिंह ने योगी आदित्यनाथ से की बातचीत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 19, 2019   20:06
उत्तर प्रदेश में हिंसा की घटनाओं को लेकर राजनाथ सिंह ने योगी आदित्यनाथ से की बातचीत

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कई हिस्सों में बृहस्पतिवार को अफरातफरी का माहौल रहा। विशेषकर पुराने लखनऊ के मुस्लिम बहुल इलाकों में तनाव पैदा हो गया। नागरिकता कानून का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर जमकर पथराव किया और कई वाहनों को आग के हवाले कर उन्हें क्षतिग्रस्त कर दिया।

नयी दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने उत्तर प्रदेश में हुई हिंसा की घटनाओं को लेकर गुरुवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बातचीत की। सिंह फिलहाल अमेरिका की आधिकारिक यात्रा पर हैं। सिंह ने ट्वीट किया है, ‘‘मैंने लखनऊ सहित उत्तर प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में हिंसा की घटनाओं के मद्देनजर प्रदेश के मुख्यमंत्री से फोन पर बातचीत की।’’

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कई हिस्सों में बृहस्पतिवार को अफरातफरी का माहौल रहा। विशेषकर पुराने लखनऊ के मुस्लिम बहुल इलाकों में तनाव पैदा हो गया। नागरिकता कानून का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर जमकर पथराव किया और कई वाहनों को आग के हवाले कर उन्हें क्षतिग्रस्त कर दिया। पुराने लखनऊ के मदेयगंज इलाके में भीड़ को तितर बितर करने के लिए पुलिस को आंसूगैस के गोले दागने पडे़।

इसे भी पढ़ें: नागरिकता विरोध: प्रदर्शनकारियों की गांधीगिरी, पुलिसवालों को दिया गुलाब का फूल

प्रदर्शनकारियों ने मदेयगंज पुलिस चौकी में तोड़फोड़ की और सतखंडा चौकी को आग लगा दी। कुछ निजी समाचार चैनलों और चार पहिया वाहनों एवं मीडिया कर्मियों के अन्य वाहनों को निशाना बनाया गया। कई वाहनों को आग के हवाले किया गया, जिनमें रोडवेज की एक बस शामिल है। शहर के अलग अलग हिस्सों में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया, जिसके बाद भीड़ को तितर बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।