चुनावों के मद्देनजर पंचायतों के पुनर्गठन का काम पूरा : सचिन पायलट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 12, 2019   15:28
चुनावों के मद्देनजर पंचायतों के पुनर्गठन का काम पूरा  : सचिन पायलट

‘‘हमारा कार्यक्रम कई महीनों से चल रहा है और हमने काम पूरा कर लिया है। दो एक जगह उच्च न्यायालय में वाद दायर हुआ और किन्हीं पंचायतों को लेकर उनसे बारे में कानूनी राय हमने मांगी है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारी तरफ से काम पूरा हो गया।

जयपुर।  उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने मंगलवार को कहा कि आगामी पंचायती चुनावों के मद्देनजर पंचायतों के पुनर्गठन व पुनर्सीमांकन का काम पूरा कर लिया गया है और जल्द ही इस बारे में रूपरेखा राज्य निर्वाचन आयोग को भेज दी जाएगी। पायलट का यह बयान राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा पंचायत पुनर्गठन कार्य में सरकार के कथित लेटलतीफी वाले रवैये पर नाराजगी जताए जाने के बाद आया है।

इस बारे में पूछे जाने पर पायलट ने कहा, ‘‘हमारा कार्यक्रम कई महीनों से चल रहा है और हमने काम पूरा कर लिया है। दो एक जगह उच्च न्यायालय में वाद दायर हुआ और किन्हीं पंचायतों को लेकर उनसे बारे में कानूनी राय हमने मांगी है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारी तरफ से काम पूरा हो गया। मुझे लगता है कि जल्द ही मतदाता सूची के प्रकाशन के लिए जो नये सीमांकन के माध्यम से हमारी रूपरेखा बनी है उसको हम भेज देंगे।’’

इसे भी पढ़ें: चुनाव परिणामों को देख बोले सचिन पायलट, भाजपा को इससे लेना चाहिए सबक

आयोग के सचिव व मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्याम सिंह राजपुरोहित ने पुनर्सीमांकन में देरी पर नाराजगी जताते हुए पंचायत राज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव को पत्र भेजा है। इसमें कहा गया है कि अगर पंचायतों के परीसीमन का काम जल्द ही पूरा नहीं हुआ तो पुराने परिसीमन के आधार पर ही चुनाव प्रक्रिया करवाई जाएगी। उल्लेखनीय है कि राज्य में पंचायत चुनाव फरवरी माह में होने हैं और आयोग ने मतदाता सूची तैयार करने का कार्यक्रम पहले ही शुरू कर दिया है। 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान की दो जाट बहुल सीटों पर सोमवार को उपचुनाव

पायलट ने महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक घटनाक्रम के बारे में कहा कि राजग गठब्ंधन लगातार कमजोर हो रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘मूल प्रश्न यह है कि भाजपा व शिवसेना का चुनाव पूर्व गठबंधन था जिसके तहत उन्होंने चुनाव लड़ा और उन्हें बहुमत भी मिला। तो ऐसे क्या कारण हैं कि व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाएं इतनी बढ़ गयी हैं कि आप अपने सहयोगी दलों को ही अंधेरे में रख रहे हैं।’’ पायलट ने कहा कि भाजपा व शिवसेना के चुनाव पूर्व गठबंधन को बहुमत मिला इसके बावजूद वे सरकार बनाने में विफल रहीं। राज्य की जनता उनसे जरूर जवाब मांगेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...