मिलिए 21 साल की रेशमा मरियम रॉय से जो बनी देश की सबसे युवा पंचायत अध्यक्ष

मिलिए 21 साल की रेशमा मरियम रॉय से जो बनी देश की सबसे युवा पंचायत अध्यक्ष

बता दें कि रेशमा ने सीपीएम पार्टी की उम्मीदवार के रूप में कांग्रेस उम्मीदवार को 70 वोटों से हराकर जीत हासिल की। सीपीएम पार्टी के लिए यह जीत काफी मायने रखती है क्योंकि पिछले 20 सालों से इस वार्ड और पंचायत पर कांग्रेस राज कर रही थी जिसे अब रेशमा ने काफी आसानी से पटकनी दे दी है।

21 साल की उम्र में रेशमा मरियम रॉय इस तरह का ध्यान आकर्षित कर रही हैं जो कई राजनेता केवल कार्यालय में वर्षों के बाद ही कर सकते हैं। जी हां, हम बात कर रहे है 21 साल की रेशमा मरियम रॉय की जो हाल ही में देश की सबसे  पंचायत अध्यक्ष चुनी गई हैं। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में 1.5 करोड़ परिवारों तक पहुंचेगा श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास

रेशमा ने बुधवार को केरल के पठानमथिट्टा जिले के अरुवाप्पुलम ग्राम पंचायत के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला है। बता दें कि रेशमा ने सीपीएम पार्टी की उम्मीदवार के रूप में कांग्रेस उम्मीदवार को 70 वोटों से हराकर जीत हासिल की। सीपीएम पार्टी के लिए यह जीत काफी मायने रखती है क्योंकि पिछले 20 सालों से इस वार्ड और पंचायत पर कांग्रेस राज कर रही थी जिसे अब रेशमा ने काफी आसानी से पटकनी दे दी है।

इसे भी पढ़ें: फर्जी लोन का मामला: तेलंगाना पुलिस ने दिल्ली एयरपोर्ट से चीनी नागरिक को किया गिरफ्तार

पंचायत अध्यक्ष चुने जाने के बाद रेशमा ने बताया कि उनके पास विकास के लिए कई नायाम तरीके हैं जिसे वह जल्द काम पर लाएंगी। इनमें से जरूरी कुछ नदी के ऊपर पुला का निर्माण कराना शामिल है। उन्होंने पुल बनाने के पीछे का कारण बताया कि नदी के एक पार मेडिकल कॉलेज है और लोगों को इसको पार करने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि, विधायक की मदद से वह उस पुल का निर्माण कराएंगी। इसके अलावा रेशमा ने आयुर्वेद अस्पताल के निर्माण को लेकर भी कई योजनाएं बनाई हुई है। इसके अलावा  जंगली जानवरों से परेशान किसानों को लेकर भी रेशमा इन समस्याओं को सुलाझानें में लगेंगी। रेशमा ने कहा कि वह बहुत खुश है कि उन्होंने एसएफआई की 50वीं वर्षगांठ पर जिम्मेदारी संभाली है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।