गरीबों के लिए वरदान है संबल योजना- शिवराज सिंह चौहान

गरीबों के लिए वरदान है संबल योजना- शिवराज सिंह चौहान

आज 664 हितग्राहियों के परिजनों को 14 करोड़ 13 लाख रूपए की अनुग्रह सहायता राशि प्रदान की जा रही है। मुख्यमंत्री ने आज संबल योजना के अंतर्गत हितग्राहियों को सिंगल क्लिक के माध्यम से राशि अंतरित की। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई उपस्थित थे।

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि मुख्यमंत्री जन कल्याण (संबल योजना) गरीबों के लिए वरदान है। प्रदेश में योजना में एक करोड़ 37 लाख  असंगठित श्रमिक पंजीकृत हैं। योजना के अंतर्गत 1 मार्च से अभी तक कुल 24,507 हितग्राहियों को 137 करोड़ 41 लाख रूपए की सहायता प्रदान की गई है। आज 664 हितग्राहियों के परिजनों को 14 करोड़ 13 लाख रूपए की अनुग्रह सहायता राशि प्रदान की जा रही है। मुख्यमंत्री ने आज संबल योजना के अंतर्गत हितग्राहियों को सिंगल क्लिक के माध्यम से राशि अंतरित की। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव डॉ. राजेश राजौरा, प्रमुख सचिव फैज अहमद किदवई उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें: केन्द्र सरकार ने शुरु की गरीब कल्याण रोजगार अभियान, मध्य प्रदेश सहित छह राज्य शामिल

मुख्यमंत्री ने वी.सी. के माध्यम से संबल योजना के हितग्राहियों से चर्चा के दौरान कहा कि संबल योजना के अंतर्गत अनुग्रह सहायता, अंत्येष्टि सहायता, प्रसूति सहायता, बिजली के बिलों में छूट, उच्च शिक्षा की फीस भरना, बेटियों का विवाह आदि सहायता गरीबों को प्रदान की जाती है। हितग्राहियों से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि बच्चे अच्छी से अच्छी उच्च शिक्षा प्राप्त करें। उनकी फीस उनका मामा शिवराज भरेगा। उज्जैन के दीपक मीना व दीपक विश्वकर्मा तथा इंदौर की सुश्री आयुषी ने मुख्यमंत्री को उनके कॉलेज की फीस भरने के लिए धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री से चर्चा के दौरान प्रसूति सहायता की हितग्राहियों ने बताया कि उन्हें 16-16 हजार रूपए की प्रसूति सहायता मिल गई है। इंदौर की पिंकी मनोहर ने मुख्यमंत्री को बताया कि वे अपनी बेटी को कलेक्टर बनाएंगी। आयुषी मालवीय ने कहा कि वे पी.एस.सी परीक्षा देंगी। मुख्यमंत्री ने दोनों को शुभकामनाएँ दीं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।